scriptRavan Putla Making work back on track after Covid | दो साल बाद पटरी पर लौटा कामकाज, रावण के पुतले बनाने वालों के खिले चेहरे | Patrika News

दो साल बाद पटरी पर लौटा कामकाज, रावण के पुतले बनाने वालों के खिले चेहरे

locationअहमदाबादPublished: Oct 03, 2022 10:29:17 pm

Ravan Putla Making work back on track after Covid अहमदाबाद, जामनगर, राजकोट, वडोदरा में बनाए, आगरा से बुलाए 20-25 कारीगर, एक महीने से कर रहे हैं तैयार

 

दो साल बाद पटरी पर लौटा कामकाज, रावण के पुतले बनाने वालों के खिले चेहरे
दो साल बाद पटरी पर लौटा कामकाज, रावण के पुतले बनाने वालों के खिले चेहरे,दो साल बाद पटरी पर लौटा कामकाज, रावण के पुतले बनाने वालों के खिले चेहरे,दो साल बाद पटरी पर लौटा कामकाज, रावण के पुतले बनाने वालों के खिले चेहरे

नगेन्द्र सिंह

Ahmedabad. नवरात्रि महोत्सव का समापन होने वाला है और लोग अब दशहरा की तैयारी कर रहे हैं। ऐसे में कोरोना महामारी के चलते दो साल तक प्रभावित रहा रावण के पुतले बनाने का कामकाज इस साल काफी हद तक पटरी पर लौटा है। लेकिन फिर भी पहले जैसी बात नहीं है। अहमदाबाद, जामनगर, राजकोट, वडोदरा, भावनगर, दाहोद से रावण, कुंभकर्म, मेघनाथ के करीब 40-45 पुतले बनाने के ऑर्डर मिले हैं। लेकिन आणंद, धर्मज, द्वारका, नडियाद और खंभात से इस साल भी ऑर्डर नहीं मिल पाए।
अहमदाबाद शहर के रामोल इलाके में खानवाड़ी में ढाई दशकों से रावण के पुतलों को बनाने वाले कारीगर परिवार के तोसिन खान ने बताया कि इस साल कोरोना संक्रमण काबू में है जिससे काफी हद तक गुजरात में मिलने वाले रावण के पुतले बनाने के ऑर्डर उन्हें मिले हैं, लेकिन कई इस साल भी नहीं मिल पाए। फिर कामकाज काफी हद तक पटरी पर आया है। इस साल राज्य में 40-45 के करीब पुतले बनाने का ऑर्डर मिला है। ज्यादातर तैयार कर लिए हैं। सिर्फ अहमदाबाद शहर के पुतलों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इस साल ऑर्डर मिलने से 20-25 कारीगरों को बुलाया गया था, जो बीते एक महीने से कामकाज में जुटे हैं।

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.