World heritage 'रानी की वाव'  की देखरेख अब निजी हाथों में

World heritage  'रानी की वाव'  की देखरेख अब निजी हाथों में
विश्व धरोहर 'रानी की वाव'  की देखरेख अब निजी हाथों में,विश्व धरोहर 'रानी की वाव'  की देखरेख अब निजी हाथों में,विश्व धरोहर 'रानी की वाव'  की देखरेख अब निजी हाथों में

Pushpendra Rajput | Updated: 23 Aug 2019, 10:24:34 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

रोशन होंगे पर्यटन स्थल

अहमदाबाद. दिल्ली के लालकिला की तर्ज पर गुजरात के इन पर्यटन स्थलों की जिम्मेदारी निजी हाथों में सौंपी जाएगी। गुजरात जिन पर्यटन स्थलों की जिम्मेदारी सौंपी गई है, उसमें विश्व धरोहरों में से एक 'रानी की वावÓ, मोढ़ेरा सूर्य मंदिर, जूनागढ़ की बौद्ध गुफा (बुद्धिस्ट कैव) और चाम्पानेर हैं। 'स्मारक मित्रÓ के तौर पर इन पर्यटन स्मारकों को गोद लिया गया है। केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय के साथ गुजरात के अक्षर ट्रैवल्स प्रा. लिमिटेड ने करार किया है। अगले माह से यह ट्रैवल कंपनी इन पर्यटन स्थलों को विकसित करने की जिम्मेदारी प्रारंभ कर सकती है।
अक्षर ट्रैवल्स के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मनीष शर्मा ने बताया कि 'रानी की वावÓ, मोढ़ेरा सूर्य मंदिर, जूनागढ़ की बौद्ध गुफा (बुद्धिस्ट कैव) और चाम्पानेर के संचालन, देखरेख समेत सुविधाएं विकसित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्होंने कहा इन स्मारकों दीवारों का रंगरोगन किया जाएगा और चारदीवारी बनाई जाएगी। नए दरवाजे लगवाए जाएंगे। प्रवेश द्वार और स्वागतकक्ष आकर्षक बनेंगे। हर समय सिक्युरिटी गार्ड मौजूद रहेंगे। इसके अलावा मेटल डिटेक्टर लगाए जाएंगे। वहीं स्मारकों पर रोशनी से सजाया जाएगा।
उन्होंने बताया कि आमतौर पर देखा जाता है पर्यटक सिर्फ स्मारक देख लेते हैं, लेकिन उनको इतिहास पर्याप्त जानकारी नहीं मिल पाती है, लेकिन इन पर्यटन स्थलों पर ऑडियो-विज्युल जानकारी मुहैया कराई जाएगी। इसके लिए विशेष कक्ष होगा। सोवेनियर शोप होगा। यात्रियों को सामान रखने के लिए लोकर रूम उपलब्ध होगा। इसके अलावा स्वच्छ पेयजल, कूड़ादान रखे जाएंगे। डिजाटल गाइड की सुविधा होगी। वाई-फाई और सीसीटीवी की व्यवस्था होगी। मिनी थिएटर बनाए जाएंगे, जहां एक बार में पचास लोग लुत्फ उठा सकेंगे। दिव्यांगों के लिए व्हीलचेयर उपलब्ध कराई जाएगी।
पर्यटन मंत्रालय से किया एमओयू
देशभर में पर्यटन को विकसित करने की दिशा में केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय ने कवायद शुरू कर दी है। इसके लिए हाल ही में नई दिल्ली में अलग-अलग राज्यों पर्यटन विभाग की बैठक हुई थी, जिसमें गुजरात के पर्यटन मंत्री जवाहर चावड़ा, पर्यटन विभाग के प्रधान सचिव एस.जे. हैदर, गुजरात पर्यटन के पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन मंत्रालय के प्रबंध निदेशक जेनू देवन की मौजूदगी में अक्षर ट्रैवल्स के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मनीष शर्मा ने पर्यटन मंत्री प्रहलादसिंह पटेल को करार पत्र सौंपा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned