पत्नी को पहाड़ी की तलहटी में ले जाकर मरोड़ी गर्दन,हत्या कर ले भागा जेवरात

भिनाय उपखंड स्थित रैण घाटी की पहाड़ी पर मिले शव का पर्दाफाश, पुलिस जांच में पति ही निकला हत्यारा, आरोपी ने कबूला अपराध,घटना के २६ दिन बाद पुलिस की गिरफ्त में आया आरोपित पति

अजमेर. विवाहिता के लिए पति ही उसकी दुनिया होती है। मां-बाप का घर-परिवार छोडक़र पति के साथ आने वाली विवाहिता गृहस्थी रूपी गाड़ी का प्रमुख पहिया होती है। एक पत्नी के लिए उसकी मांग का सिंदूर सुरक्षा, भरोसा और समर्पण का प्रतीक माना जाता है।

पति ही उसका भगवान, एक-एक सांस का मालिक और जीवन का अभिन्न अंग होता है, लेकिन यही पति बीवी को मौत के घाट उतार दे तो पति-पत्नी के पवित्र रिश्ते कलंकित हो जाते हैं। आखिर भिनाय उपखंड स्थित रैण की घाटी में जिस विवाहिता का सड़ा-गला शव मिला। इसमें पति ही हत्यारा निकला। पुलिस के सामने आरोपित ने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया।

अनबन होने पर पीहर आ गई थी सुशीला

पुलिस के अनुसार रैण घाटी में जिस विवाहिता का शव मिला। वह ग्राम नारा बाबा का बाडिय़ा, उदयगढ़ खेड़ा निवासी रघुनाथ रावत की पुत्री सुशीला उर्फ पिन्टा का निकला। पति से अनबन होने पर वह पीहर आ गई थी। बाद में पति रूप सिंह ने दूसरी शादी भी कर ली, लेकिन सुशीला से सम्बन्ध बनाए रखे।

वैसे सुशीला का विवाह पहले किसी युवक से हुआ बताते हैं, लेकिन इसे छोडक़र उसने दो साल पहले रूप सिंह से नाता विवाह कर लिया था। तीन माह पहले किसी बात को लेकर अनबन होने पर सुशीला ने रूपसिंह को भी छोड़ दिया और वह पीहर आ गई थी।

16 सितम्बर से थी लापता

थानाधिकारी धर्मराज मीणा के अनुसार सुशीला १6 सितम्बर को घर से लापता हुई थी। इसकी गुमशुदगी दर्ज होने पर पुलिस ने तलाश किया। बीते शनिवार १२ अक्टूबर को शव रैण घाटी में मिला था। जो 26 दिन पुराना होने से काफी सड़ गया था। मृतका के भाई राजूसिंह व उसकी मां ने शव की शिनाख्त की थी। भाई ने हत्या का मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने मोबाइल की लोकेशन के आधार पर जांच को आगे बढ़ाया। पुख्ता सबूत मिलने पर आरोपी को पुलिस हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो उसने सुशीला की हत्या करना स्वीकार कर लिया।

हत्या के पीछे लूट को वजह बताने की कोशिश

पूछताछ में आरोपी रूपसिंह ने पुलिस को बताया कि १६ सितम्बर को उसने सुशीला को घर से बुलाया। भिनाय बस स्टैंड से बाइक पर बैठा कर पहाड़ी तलहटी में ले गया। यहां मोबाइल की बात को लेकर दोनों में झगड़ा हो गया। इस दौरान तैश में आकर उसने सुशीला की गर्दन मरोड़ दी। इससे वह अचेत हो कर गिर गई। बाद में रूप सिंह ने गला दबाकर उसे मौत के घाट उतार दिया। इस हत्या की वजह लूट बताने के लिए वह सुशीला के पायजेब, सोने के टोप्स, गले से चांदी की चेन लेकर फरार हो गया,लेकिन उसकी यह चालाकी काम नहीं आई।

suresh bharti
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned