कोरोना वार्ड में इलाज के साथ मरीज कर रहे योग और व्यायाम

पॉजिटिव मरीजों को चिकित्सकों की टीम करवाती है नियमित अभ्यास

By: CP

Published: 24 May 2020, 09:01 AM IST

अजमेर. कोरोना को मात देने में जितनी दवाइयां कारगर हैं उससे कहीं अधिक उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास करना भी है। अस्पताल के कोरोना पॉजिटिव वार्ड में प्रतिदिन योग और व्यायाम की ऐसी क्लास लग रही है कि मरीज अब सीनियर डॉक्टर्स के आने का इंतजार करने लगे हैं। वार्ड में पलंग से उतकर खुले परिसर में सोशल डिस्टेंस की पालना के साथ प्रतिदिन योग और व्यायाम किया जा रहा है।

अजमेर के जवाहर लाल नेहरू अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कोरोना पॉजिटिव मरीज उपचारत हैं। पॉजिटिव मरीजों को मानसिक और शारीरिक रूप से संबल पहुंचाने के लिए योग और व्यायाम कारगर साबित हो रहे हैं। मरीजों को मानें तो दवाइयों के साथ योग-व्यायाम एवं प्राणायाम आदि का भी असर दिखने लगा है। वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. अनिल सामरिया, डॉ. हरदयाल की ओर से शनिवार सुबह भी कोरोना पॉजिटिव मरीजों को योग और व्यायाम का अभ्यास करवाया गया है। अस्पताल के वार्ड में रहकर व्यायाम करना मरीजों को अच्छा लग रहा है। वे सुबह उठकर नित्यकर्म से निवृत होकर पहले प्राणायाम करते हैं और बाद में चाय बिस्किट के बाद योग-व्यायाम करते हैं। पिछले कुछ दिनों से जेएलएन अस्पताल अजमेर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की रिकवरी रेट बेहतर है। राज्य की रिकवरी रेट से भी कहीं अधिक अजमेर की रिकवरी रेट चल रही है। यहां चिकित्सकों की मेहनत एवं मरीजों की ओर से इस तरह की गतिविधियों में शामिल होने व अभ्यास से उनकी इम्यूनिटी पावर भी बढ़ी है।

यह है स्थिति

-जेएलएन अस्पताल में 230 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।
-करीब 75 मरीज अस्पताल के बाद क्वॉरंटीन सेन्टर से भी डिस्चार्ज हो चुके हैं।

-4 मरीज शनिवार को स्वस्थ होकर क्वॉरंटीन सेन्टर भेजे गए हैं।
-अब 43 एक्टिव केस भर्ती हैं।

CP Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned