Weather report: सुबह से तेज धूप, मौसम में गर्माहट

धूप निकलने से पहले रही ठंडक नदारद हो चुकी है। धूप जैसे-जैसे तेज हो रही है, गर्माहट भी महसूस होने लगी है।

By: raktim tiwari

Updated: 22 Apr 2021, 09:18 AM IST

अजमेर. मौसम में बदलाव बना हुआ है। गुरुवार को सुबह से तेज धूप और गर्माहट बनी हुई है। बुधवार को रही ठंडक गायब है। अधिकतम तापमान 34.0 डिग्री रहा। दो दिन में तापमान में 6 डिग्री की गिरावट आ गई है।

सुबह से मौसम सामान्य है। धूप निकलने से पहले रही ठंडक नदारद हो चुकी है। धूप जैसे-जैसे तेज हो रही है, गर्माहट भी महसूस होने लगी है। बुधवार को मंडराई बादलों की टुकडिय़ां नहीं दिख रहीं। हवा में भी ठंडापन महसूस नहीं हो रही। न्यूनतम तापमान 20.2 डिग्री रहा।

यूं बदला मौसम
मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती परिसंचार बन रहा है। कई पर्वतीय और मैदानी इलाकों में इससे बरसात हो सकती है। अजमेर और अन्य जिलों में भी इसका असर दिख सकता है।

सेनेटाइजेशन मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की करें पालना

अजमेर. कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकार ने जन अनुशासन पखवाड़ा लागू किया है। इसका मकसद महामारी से आमजन को सुरक्षित रखना है। सरकार के जन अनुशासन पखवाड़े को आमजन ही कामयाब बना सकता है। अकारण घर से बाहर निकलने, मास्क का उपयोग औरसोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं करने से समस्याएं बढ़ेंगी। इसको ध्यान में रखते हुए राजस्थान पत्रिका ने वेबिनार पर जनसंवाद कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें एसपी जगदीशचंद्र शर्मा ने आमजन को कोरोना महामारी से बचाव, संक्रमण के फैलाव को रोकने और कफ्र्यू से जुड़े नियमों की अनुपालना का आह्वान किया।

सवाल-शादी-समारोह का सीजन है। टैंट, कपड़े, आभूषण, जूते की दुकानें बंद हैं। जिन घरों में विवाह हैं,उन्हें परेशानियां हो रही हैं।
जवाब-कोरोना महामारी में सबसे अहम आमजन की जान बचाना है। कुछ कठोर पाबंदियों से शादियों का आनंद फीका होता है, इससे सब वाकिफ हैं। लेकिन हम थोड़ा अनुशासन में रहेंगे तो हजारों लोगों की जान बच सकेगी।
सवाल-कई स्वर्णकारों और व्यापारियों ने शादियों के ऑर्डर लिए हैं, उन्हें डिलीवरी नहीं दे रहे। इनके श्रमिकों को सरकार-प्रशासन को रियायत देनी चाहिए।
जवाब-पूरे राज्य में समान गाइडलाइंस जारी हुई हैं। कलक्टर भी शादियों से जुड़ी व्यापारियों की समस्याओं से वाकिफ हैं। कुछ शर्तों-पाबंदियों के साथ होम डिलीवरी सिस्टम को लेकर बातचीत जारी है।
सवाल-कई लोग शाम को खेतों-दिहाड़ी कर वापस लौटते हैं। उन्हें चेक नाकों पर पुलिस रोककर पूछताछ करती है। लोगों को परेशान होना पड़ता है।
जवाब-सरकार ने जिन आवश्यक सेवाओं अथवा लोगों को अनुमत किया है, उन्हें कोई परेशान नहीं कर रहा। लेकिन सुरक्षा और कानूनी प्रावधानों के अनुसार पूछताछ करना गलत नहीं है।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned