यूपी महिला आयोग सदस्य का बेतुका बयान, 'लड़कियों को मोबाइल न दें, ये बढ़ते अपराध का सबसे बड़ा कारण है'

राज्य महिला आयोग की सदस्य पहुंचीं थीं अलीगढ़। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने इस बयान की कड़ी निंदा की।

By: Rahul Chauhan

Published: 10 Jun 2021, 02:35 PM IST

अलीगढ़। महिलाओं की सुरक्षा और आजादी को लेकर के देश में हमेशा कई तरह के अभियान चलाएं जाते हैं, कानून बनाएं जाते हैं ताकि इस देश में महिलाएं खुद को सुरक्षित महसूस कर सकें। लेकिन इन सबके बावजूद महिलाओं की सुरक्षा हमेशा से बड़ी समस्या रही है। वहीं अब उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी ने महिलाओं के साथ बढ़ रहे अपराधों को लेकर एक बेतुका बयान दिया है।

यह भी पढ़ें: इस शहर में नकली दवा, खेल के सामान से लेकर डीजल तक बनता है नकली

मीना कुमारी ने महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों के बढ़ने की वजह उनका मोबाइल फोन इस्तेमाल करना बताया है। दरअसल मीना कुमारी उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ पहुंचीं थी जहां पर उन्होंने महिलाओं को अपनी सुरक्षा के लिए खुद ही गंभीर होने की बात कही और मोबाइल को इस समस्या का कारण बताया है। उनके अनुसार लड़कियों का लड़कों से मिलना और फोन पर घंटो बात करना ही उनकी असुरक्षा और उनके साथ होने वाले अपराधों का कारण बन रहे हैं।
इतना ही नहीं उन्होंने घर वालों को लड़कियों के मोबाइल तक चेक करने की सलाह दे डाली। उन्होंने कहा कि घरवालों को इसके प्रति सजग होना चाहिए क्योंकि उनको पता नहीं होता कि उनकी लड़की क्या कर रही है और मोबाइल से बात करते-करते लड़कों के साथ भाग जाती हैं।

मीना कुमारी ने अपील की है कि लड़कियों को मोबाइल ना या जाए और यदि मोबाइल दिया जाता है तो उस पर पूरी तरह से नजर रखी जाए। इतना ही नहीं उन्होंने लड़कियों की माताओं पर भी उंगली उठाते हुए कहा कि यदि बेटियां बिगड़ रही हैं तो उसके लिए उनकी माताएं ही जिम्मेदार हैं। वहीं जब उनके इस बयान के बारे में उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैं अपने बयान पर अभी भी कायम हूं लेकिन मैंने सिर्फ लड़की नहीं बल्कि लड़कों के लिए भी यही बात कही है,उनका मानना है कि परिवार वालों को नाबालिग लड़के और लड़की के मोबाइल चेक करने चाहिए।

यह भी पढ़ें: भैंस के आगे बीन बजा रहे कांग्रेस कार्यकर्ता, पूरा मामला जानकर लोग भी कर रहे समर्थन

विपक्ष ने साधा निशाना

उनके इस बयान पर विपक्ष ने निशाना साधा है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने उनके इस बयान की कड़ी निंदा करते हुए कहा, 'नहीं मैडम, लड़की के हाथ में फोन बलात्कार का कारण नहीं है. बलात्कार का कारण है ऐसी घटिया मानसिकता जो अपराधियों के हौसले और बढ़ाती है।‘ उन्होंने प्रधानमंत्री जी से निवेदन करते हुए कहा कि सभी महिला आयोगों को ज़रा सेंसिटाइज करवाए और दिल्ली महिला आयोग की कार्यशैली देखने के लिए भेजें तब हम इनको सिखाएंगे कि काम कैसे होता है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned