समाजवादी पार्टी के इस नेता पर मानहानि का मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी ,सपा प्रवक्ता ने दिया बड़ा बयान

समाजवादी पार्टी के इस नेता पर मानहानि का मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी ,सपा प्रवक्ता ने दिया बड़ा बयान
akhilesh yadav

Prasoon Kumar Pandey | Updated: 15 Sep 2018, 09:36:26 PM (IST) Allahabad, Uttar Pradesh, India

कहा साबित करें आरोप नही तो हम करायेंगे क़ानूनी कार्यवाही

इलाहाबाद:इलाहाबाद विश्वविद्यालय में कुलपति रतनलाल हांगलू के मोबाइल नंबर से एक महिला के साथ हुई चैटिंग का स्क्रीनशॉट वायरल होने के बाद छात्र नेता द्वारा उस महिला का ऑडियो जारी किया गया था।यह मामला अभी शांत नहीं हो पाया कि एक बार फिर सनसनी खेज मामला सामने आया है।विश्वविद्यालय की पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह ने कुलपति पर सवाल उठाते हुए 13 मई 2016 का एक पत्र जारी किया है।जिसको लेकर हड़कम्प मच गया है।

कुलपति के साथ एक महिला की चैट का दावा करते हुए पूर्व छात्र नेता ने सोशल मीडिया पर चैट वायरल किया था।जिसको कुलपति समेत विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक सिरे से खारिज कर दिया । और छात्र नेता के खिलाफ आईटी एक्ट में मुकदमा दर्ज कराया।यह मामला शांत भी नहीं हुआ कि महिला के ऑडियो के बाद ऋचा सिंह ने 13 मई 2016 का एक पत्र जारी किया है।जिसमें कल्याणी विश्वविद्यालय की एक महिला ने कुलपति पर गंभीर आरोप लगाया गया है। बता दें कुलपति हांग्लू इविवि से पहले कल्याणी विवि में कुलपति थे।

ऋचा सिंह ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। कहा कि विश्वविद्यालय कैंपस महिलाओं के लिए असुरक्षित है। वही ऋचा सिंह के पत्र मामले को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन ने अपनी नाराजगी जताते हुए कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।विश्वविद्यालय के पीआरओ डॉ चितरंजन सिंह ने कहा कि ऋचा सिंह ने विश्वविद्यालय की गरिमा को ठेस पहुंचाया है। विश्वविद्यालय को लेकर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति कार्यालय को अनर्गल आरोपों के साथ पत्र लिखा है। इस मामले को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन सपा प्रदेश प्रवक्ता ऋचा सिंह पर मानहानि का मुकदमा दर्ज करवाने की तैयारी में है।

ऋचा पर इविवि पीआरवो ने आरोप लगाया है की उन्होंने अपने कार्यकाल में छात्र संघ के बजट का गबन किया है। वहीं विश्वविद्यालय प्रशासन के बयान पर ऋचा सिंह ने बड़ा पटलवार किया है। ऋचा का कहना है कि मैंने अपने कार्यकाल में बजट का एक भी रुपया नहीं लिया।जब मैंने विश्वविद्यालय प्रशासन से पूछा कि छात्र संघ के बजट का पैसा किस मद में खर्च हुआ ।इसका जबाब नहीं दिया गया, उन्होंने दावा किया है कि विश्वविद्यालय प्रशासन मेरे ऊपर गबन का आरोप सिद्ध नहीं करता है। तो वह विश्वविद्यालय के जिम्मेदार अधिकारियों पर मानहानि का मुकदमा दर्ज कराएंगी

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned