scriptDemand to issue order to print and distribute kajlist | मुख्य न्यायाधीश से काजलिस्ट छापने व वितरित कराने का आदेश जारी करने की मांग | Patrika News

मुख्य न्यायाधीश से काजलिस्ट छापने व वितरित कराने का आदेश जारी करने की मांग

वरिष्ठ अधिवक्ता ए एन त्रिपाठी का कहना है कि मुकदमे कोर्ट में लगाने और उसकी पहले से जानकारी देने का हाईकोर्ट प्रशासन कि वैधानिक जिम्मेदारी है।काजलिस्ट न छपने के कारण लोगों को मुकद्दमो की जानकारी नहीं हो पा रही है। केंद्र सरकार के अधिवक्ता नरेंद्र कुमार चटर्जी वह अशोक सिंह ने कहा कि विगत दो दिनों से इन लाइन काजलिस्ट नहीं खुल रही है।

इलाहाबाद

Published: March 31, 2022 08:23:48 pm

प्रयागराज: इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से कोरोना काल से रूकी काजलिस्ट छापना शुरू करने की मांग की गई है। हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व उपाध्यक्ष एसके गर्ग ने मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल को पत्र लिखकर आम वकीलों व अधिवक्ता लिपिकों को हो रही भारी दिक्कतों को देखते हुए काजलिस्ट का वितरण किए जाने का अनुरोध किया गया है।
मुख्य न्यायाधीश से काजलिस्ट छापने व वितरित कराने का आदेश जारी करने की मांग
मुख्य न्यायाधीश से काजलिस्ट छापने व वितरित कराने का आदेश जारी करने की मांग
यह भी पढ़ें

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 6800 अतिरिक्त सहायक शिक्षकों की नियुक्ति पर रोक लगाने का फैसला सही

वरिष्ठ अधिवक्ता ए एन त्रिपाठी का कहना है कि मुकदमे कोर्ट में लगाने और उसकी पहले से जानकारी देने का हाईकोर्ट प्रशासन कि वैधानिक जिम्मेदारी है।काजलिस्ट न छपने के कारण लोगों को मुकद्दमो की जानकारी नहीं हो पा रही है। केंद्र सरकार के अधिवक्ता नरेंद्र कुमार चटर्जी वह अशोक सिंह ने कहा कि विगत दो दिनों से इन लाइन काजलिस्ट नहीं खुल रही है।
यह भी पढ़ें

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सहायक अध्यापक भर्ती में चयनित अध्यापिकाओं की तैनाती सख्त, जानिए वजह

काजलिस्ट छपने से वकीलों को एक दिन पहले कोर्ट में लगे मुकद्दमों की जानकारी हो जाती थी और वह तैयारी कर कोर्ट में पक्ष रख सकते थे। अतुल कुमार पाण्डेय, संतोष कुमार मिश्र, प्रशांत सिंह रिंकू, उदय शंकर तिवारी शरद चंद्र मिश्र, रमेश चंद्र शुक्ल आदि तमाम अधिवक्ताओं ने हाईकोर्ट के सिस्टम की खामियों के चलते काजलिस्ट के वितरण की मांग की है।
यह भी पढ़ें

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सहायक अध्यापक भर्ती में चयनित अध्यापिकाओं की तैनाती सख्त, जानिए वजह

कोर्ट ने इसे प्रथमदृष्टया गलत करार दिया है और शिक्षा निदेशक बेसिक उ प्र लखनऊ डा सर्वेंद्र विक्रम बहादुर सिंह को दो हफ्ते में जवाब दाखिल करने या स्वयं हाजिर होकर सफाई देने का निर्देश दिया है। याचिका की सुनवाई 12अप्रैल को होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबPM Modi in Germany for G7 Summit LIVE Updates: 'गरीब देश पर्यावरण को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं, ये गलत धारणा है' : G-7 शिखर सम्मेलन में बोले पीएम मोदीयूक्रेन में भीड़भाड़ वाले शॉपिंग सेंटर पर रूस ने दागी मिसाइल, 2 की मौत, 20 घायल"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शिवसैनिकों से बोले आदित्य ठाकरे- हम दिल्ली में भी सत्ता में आएंगे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.