scriptHigh Court's decision for compassionate appointme | अनुकंपा में नौकरी के लिए अपील करने वालों के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का यह फैसला, जानें कौन हैं हकदार | Patrika News

अनुकंपा में नौकरी के लिए अपील करने वालों के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का यह फैसला, जानें कौन हैं हकदार

locationप्रयागराजPublished: Dec 01, 2023 08:39:29 am

Submitted by:

Pravin Kumar

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अनुकंपा नियुक्ति पर एक फैसला सुनाया और कहा कि अनुकंपा नियुक्ति का दावा सिर्फ ये लोग कर सकते हैं। असली हकदार सिर्फ ये लोग होते है।

high_court_2.jpg
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अविवाहित मृतक कर्मचारी के शादीशुदा भाई को अनुकंपा नियुक्ति देने से इंकार कर दिया। कहा कि शादीशुदा भाई अविवाहित मृतक कर्मचारी का आश्रित होने का दवा नहीं कर सकता। याची ने पीएसी गोरखपुर में ड्राइवर के पद पर तैनात है मृतक अविवाहित भाई के स्थान पर अनुकंपा नियुक्ति के दावे को खारिज करने वाले आदेश को चुनौती दी थी। यह फैसला न्यायमूर्ति अजीत कुमार की अदालत ने याची संजय कुमार की याचिका को खारिज करते हुए दिया।

याची के अधिवक्ता दिलीप कुमार श्रीवास्तव ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा विमला देवी के प्रकरण में स्थापित विधि व्यवस्था के आलोक में याची को अनुकंपा नियुक्ति देने की मांग की थी। दलील थी कि विमला देवी के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बहन को भाई की अनुकंपा नियुक्ति का हकदार माना है।तो शादीशुदा भाई के साथ लैंगिक भेदभाव ना करें उससे भी अनुकंपा नियुक्ति का हकदार माना जाए।
कोर्ट ने याची के दावे को खारिज करते हुए कहा कि अविवाहित मृतक का कर्मचारी का आश्रित सिर्फ अविवाहित भाई-बहन, माता और पिता को ही माना जा सकता है। वर्तमान मामले में याची शादीशुदा होने के साथ ही मृतक कर्मचारियों का बड़ा भाई है इसलिए उसे मृतक भाई की अनुकंपा नियुक्ति का हकदार नहीं माना जाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो