script महाकुंभ 2025 से पहले 40 करोड़ की लागत से बदलेगा प्रयागराज के लेटे हनुमान मंदिर का स्वरूप, बढ़ेंगी पर्यटक सुविधाएं | Mahakumbh 2025 change Prayagraj's Late Hanuman Temple at Rs 40 crore | Patrika News

महाकुंभ 2025 से पहले 40 करोड़ की लागत से बदलेगा प्रयागराज के लेटे हनुमान मंदिर का स्वरूप, बढ़ेंगी पर्यटक सुविधाएं

locationप्रयागराजPublished: Dec 24, 2023 09:00:32 pm

Submitted by:

Krishna Rai

महाकुंभ 2025 से पहले योगी सरकार प्रयागराज और यहां के धर्मस्थलों को सजाने संवारने में जुटी हुई है। प्रयागराज के कोतवाल लेटे हनुमान मंदिर के कायाकल्प की भी तैयारी जोरों पर है।

lete_hanuman_ji.jpg
प्रयागराज: योगी सरकार 2025 में होने वाले महाकुंभ के अयोजन को यादगार बनाने में जुटी है। व्यापक स्तर पर परियोजनाओं पर काम चल रहा है। इसी क्रम में महाकुंभ मेला क्षेत्र में स्थित बड़े हनुमान मंदिर के कायाकल्प का भी प्रस्ताव है। बड़े हनुमान मंदिर को लेटे हनुमान का मंदिर भी कहा जाता है। स्थानीय लोगों के साथ ही हर वर्ष देश और विदेश से लाखों लोग यहां हनुमान जी का दर्शन करने आते हैं। अधिक भीड़ होने पर यहां लोगों को समस्या का सामना भी करना पड़ता है। योगी सरकार ने महाकुंभ से पहले करीब 40 करोड़ की लागत से बड़े हनुमान मंदिर परिसर के कायाकल्प की योजना बनाई है। इसमें आसपास की जमीन को लीज पर लेकर मंदिर का विस्तार बढ़ाने की तैयारी है। इससे पर्यटक सुविधाओं में भी इजाफा होगा।
लांग लीज पर जगह लेने की है तैयारी
सूबे की योगी सरकार महाकुंभ के रूप में दुनिया के सबसे बड़े मेले के अयोजन की मेजबानी करने जा रही है। इस मेले को दिव्य और भव्य बनाने के लिए हर जिम्मेदार विभाग और अधिकारी जुटे हुए हैं। इसी क्रम में महाकुंभ की तैयारियों के साथ ही आसपास के धार्मिक स्थलों और पर्यटक स्थलों का भी विकास किया जा रहा है। लेटे हनुमान मंदिर के एक्जिक्यूशन प्लान को प्रयागराज डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीडीए) के तहत इंप्लीमेंट किया जाएगा। इस पूरे प्रोजेक्ट के लिए हाई कोर्ट के रिटायर जस्टिस से लीगल ओपिनियन भी लिया गया है। योजना के तहत प्रयागराज मेला अथॉरिटी आसपास के इनक्रोच्ड एरिया को डिफेंस अथॉरिटी और कैंटोनमेंट बोर्ड से लॉन्ग टर्म के लिए लीज पर ले सकती है। इनक्रोच्ड एरिया का यूपी प्रयागराज मेला अथॉरिटी इलाहाबाद एक्ट 2017 के तहत उपयोग किया जा सकता है।
श्रध्दालुओं की सुविधा के लिए होंगे बेहतर इंतजाम
मंदिर के ले आउट प्लान के अनुसार, मंदिर का प्रवेश द्वार मल्टीपल एग्जिट वाला होगा। आसान आवागमन और बेहतर भीड़ प्रबंधन के साथ भगदड़ से बचने के लिए गर्भ गृह के आसपास 30 मीटर की खुली जगह रखी जाएगी। इसके अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था के भी पुख्ता इंतजाम होंगे। लाइन में लगकर दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए 9 मीटर का क्यू शेड भी लगाया जाएगा। एक समय में अधिक से अधिक लोगों को दर्शन कराने के लिए ओपन एयर थिएटर अवधारणा के साथ गर्भगृह का निर्माण किया जाएगा। इसके अलावा परिसर में पुजारी स्थल, प्रसाद स्थल, यात्री शेड और भंडारा गृह भी होगा। सबसे पीछे की ओर एग्जिट डोर होगा। वीआईपी एंट्री और एग्जिट के साथ ही परिसर में बड़ी पार्किंग की भी स्थापना की जाएगी।
पूरे प्रोजेक्ट पर आ सकता है 40 करोड़ से उपर का खर्च
प्रयागराज के प्रसिध्द बड़े हनुमान जी के मंदिर परिसर में आने वाले श्रध्दालुओं की सुविधा का पूरा बंदोबस्त किया जाएगा। इसमें टॉयलेट, ड्रिंकिंग वाटर फैसिलिटी, शू रैक्स, साइनेज, बेंचेस जैसी आम जरूरत की चीजें भी होंगी। आरती स्थल और गेदरिंग हाल के साथ ही पूरा परिसर सोलर लाइट्स से जगमगाएगा। मंदिर परिसर के कायाकल्प और सौंदर्यीकरण के लिए तय एस्टीमेट के अनुसार 40 करोड़ से 48 करोड़ रुपए तक के खर्च का अनुमान है। इस प्रोजेक्ट की समय सीमा 10 माह है।

ट्रेंडिंग वीडियो