इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति की आपत्ति के बाद मस्जिद पहुंची पुलिस, कम कराई लाउडस्पीकर की आवाज

- रात 10 से सुबह 6 तक न हो किसी तरह का ध्वनि प्रदूषण
- पुलिस के निर्देश पर मस्जिद कमेटी ने हटाए लाउडस्पीकर

By: Neeraj Patel

Published: 17 Mar 2021, 06:26 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
प्रयागराज. इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के आपत्ति जताने के बाद पुलिस ने मस्जिद पहुंचकर लाउडस्पीकर की आवाज को कम करा दिया। सिविल लाइंस में स्थित मस्जिद से होने वाली अजान की आवाज तेज होने को लेकर कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव ने आपत्ति जताई थी। एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि मस्जिद के मुतवल्‍ली को निर्देश दिया गया है कि हाई कोर्ट की ओर से निर्धारित डेसीबल तक ही लाउडस्‍पीकर की आवाज रखी जाए। ताकि किसी को परेशानी न हो। लाउडस्पीकर की आवाज धीमी कर दी गई है। चार लाउडस्पीकर के बजाय अब दो लाउडस्पीकर ही लगाए गए हैं। इन लाउडस्पीकर को वीसी आवास से विपरीत दिशा में कर दिया गया है।

मस्जिद की देखरेख करने वाले मोहम्मद कलीम का कहना है कि थाने का एक दरोगा आया था जिस ने बताया कि अजान के दौरान लाउड स्पीकर की आवाज तेज होने के चलते आस-पास के लोगों को परेशानी होती है। जिस पर तत्काल ही आवाज धीमी कर दी गई। वहीं इस मामले में आईजी रेंज के पी सिंह का कहना है कि हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट का निर्देश है कि रात 10 से सुबह 6 तक किसी तरह का ध्वनि प्रदूषण न हो। निर्धारित डेसिबल से ज्यादा की ध्वनि वाले यंत्रों का प्रयोग न किया जाए।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव के घर के करीब एक मस्जिद से आने वाली अजान की तेज आवाज उन्हें ठीक से सोने नहीं देती। कुलपति ने प्रयागराज के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर अपनी शिकायत दर्ज कराई थी कि अजान की अवाज उनकी नींद को खराब कर देती है। उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक आदेश का हवाला देते हुए जिलाधिकारी से अपेक्षा की थी कि वह क्षेत्र में शांति बनाए रखने के लिए आवश्यक निर्देश जारी करेंगे। कुलपति ने एसएसपी, आईजी और कमिशर को भी पत्र की कॉपी भेजी थी।

कुलपति ने डीएम को लिखा था खत

कुलपति की ओर से जिलाधिकारी को लिखा गया पत्र का विषय है, 'नॉयस पॉल्यूशन इन द सिविल लाइंस, प्रयागराज' यानी 'सिविल लाइंस, प्रयागराज में ध्वनि प्रदूषण। कुलपति ने अपने पत्र में लिखा था कि प्रतिदिन सुबह 5.30 बजे के असपास उनके घर के निकट स्थित मस्जिद से आने वाली अजान की तेज आवाज से उनकी नींद खराब हो जाती है। हालंकि उन्होंने अपने पत्र में यह भी स्पष्ट किया था कि वह किसी भी धर्म, जाति या संप्रदाय के खिलाफ नहीं हैं। कुलपति ने अपने पत्र में आगे लिखा था कि यहां तक ईद में सुबह चार बजे सहरी की घोषणा की जाती है। इसके कारण भी आस-पास के लोगों को समस्या होती है। कुलपति ने डीएम से अपेक्षा की थी कि वह जल्द ही इस पर कोई कार्रवाई करेंगे ताकि शांति कायम हो सके और अजान की तेज आवाज से परेशान लोगों को राहत मिल सके।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned