किससे करें शिकायत बेटियां, प्राचार्य कक्ष में धूल फांक रही पेटियां

अलवर. बेटियों के खिलाफ बढ़ते अपराधों को लेकर राज्य सरकार व शिक्षा विभाग ने सभी निजी व सरकारी स्कूलों में शिकायत पेटिका लगाने के निर्देश दिए थे। इसके बावजूद आज भी ज्यादातर स्कूलों में विभाग के इस निर्देश को दरकिनार किया जा रहा है।

Prem Pathak

December, 0506:00 AM

अलवर. बेटियों के खिलाफ बढ़ते अपराधों को लेकर राज्य सरकार व शिक्षा विभाग ने सभी निजी व सरकारी स्कूलों में शिकायत पेटिका लगाने के निर्देश दिए थे। इसके बावजूद आज भी ज्यादातर स्कूलों में विभाग के इस निर्देश को दरकिनार किया जा रहा है।

प्राचार्य कक्ष में कैद शिकायत पेटिका

बुधवार को जब पत्रिका टीम बहरोड़ कस्बे स्थित सरकारी स्कूलों में पहुंची तो कहीं पर शिकायत पेटी मिली। दो जगह बाहर लगी होने के बजाए प्राचार्य कक्ष में रखी मिली। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में शिकायत पेटी प्राचार्य कक्ष में एक मेज पर रखी हुई थी। विद्यालय में पुलिस तथा महिला हेल्पलाइन के नम्बर नजर नहीं आए। राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय नम्बर एक में भी शिकायत पेटिका प्राचार्य कक्ष में मिली थी। विद्यालय प्राचार्य रामकला यादव ने बताया कि हर महीने छह सात शिकायतें मिलती है। सबलपुरा मोहल्ले के नम्बर तीन स्कूल के प्रिंसिपल रामनिवास यादव ने कहा कि विद्यालय में शिकायत पेटिका की कोई जरूरत नहीं है।

खैरथल में पत्रिका रिपोर्टर सरकारी विद्यालय राजकीय सीनियर उच्च माध्यमिक विद्यालय पहुंचा तो प्रिंसीपल नवीन चौधरी ने बताया कि शिकायत पेटिका बाबू के कमरे में हैं लेकिन उसका कमरा बंद मिला।
कस्बे के सबसे बड़े राजकीय बालिका विद्यालय में भी शिकायत पेटिका नही मिली। प्रिंसीपल राजबाला यादव ने पूछने पर शिकायत पेटिका को स्टोर से निकाल कर बाहर रखवाया गया।

आनन्द नगर कालोनी स्थित बालिका माध्यमिक विद्यालय में पेटिका प्रिंसीपल के कमरे में मिली। कर्मचारी प्रमोद चौधरी ने बताया कि शिकायत व सुझाव पेटी के अलावा बच्चों को आपातकाल नम्बरों से भी अवगत कराया जाता है ।

राजगढ़ कॉलेज में मिली शिकायत पेटी

राजगढ़ कस्बे के राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में उपाचार्य कक्ष के पास शिकायत एवं सुझाव पेटिका लगी हुई मिली। कार्यवाहक प्राचार्य एफएस चारण ने बताया कि शिकायत आती है तो समस्या का समाधान किया जाता है। कॉलेज में महिला उत्पीडन रोकथाम समिति बनी हुई है। शिकायत पर समिति नियमानुसार कार्रवाई करती है।

कस्बे के कल्पना चावला पीजी गल्र्स कॉलेज में भी शिकायत पेटिका प्राचार्य कक्ष के बाहर मिली तथा बगल में पुलिस सहित अन्य विभागों के हेल्पलाइन नम्बर लिखे हुए मिले। कॉलेज निदेशक डीएस नरूका ने बताया कि छेड़छाड़ से सम्बन्धित कोई भी शिकायत अभी तक नहीं मिली है। कॉलेज में केवल छात्राएं ही अध्ययन करती है तथा अधिकांश महिला स्टाफ है। खेल मैदान व कैंटीन से सम्बन्धित सुझाव व शिकायत आती है उसका निदान करा दिया जाता है।

आनन-फानन में तैयार की शिकायत पेटिका

नौगांवा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय चीडवा में में शिकायत पेटिका नहीं मिली। अध्यापकों से पूछा गया तो उन्होने अक्षय पेटिका को ही शिकायत पेटिका बताकर मामला रफा-दफा करने की कोशिश की। बाद में पत्रिका टीम को दिखाने के लिए लोहे के पीपे पर कम्पयूटर से स्टिकर लगाकर शिकायत पेटिका / गरिमा पेटी तैयार की गई।

इसी तरह राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय चौमा में शिकायत पेटिका नजर नहीं आई। अध्यापकों ने बताया कि गरिमा पेटी अलमारी के ऊपर रखी है। शिकायत आने पर पेटिका को नींचे उतार दिया जाता है।

Prem Pathak
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned