अलवर: चोरी के शक में बुजुर्ग महिला व दो पुरुषों को खंबे से बांधकर बुरी तरह पीटा, लहूलुहान हुए, लोग वीडियो बनाते रहे

चोरी के संदेह पर भीड़ ने एक महिला और दो पुरुषों को खंभे से बांधकर बुरी तरह से पीटा। तीनों को गंभीर चोटें आई हैं।

By: Lubhavan

Published: 23 Feb 2021, 10:52 AM IST

अलवर. अलवर शहर के श्योलालपुरा मोहल्ले में चोरी के संदेह पर भीड़ ने एक महिला और दो पुरुषों को खंभे से बांधकर बुरी तरह से पीटा। तीनों को गंभीर चोटें आई हैं। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उन्हें भीड़ के कब्जे से छुड़ाया। पुलिस ने घटना के सम्बन्ध में मामला दर्ज कर एक महिला सहित सात जनों को गिरफ्तार किया है।

शहर के श्योलालपुरा मोहल्ला निवासी चुन्नीलाल, बाबूलाल और राजू के लोडिंग रिक्शा चोरी हो गए। रिक्शा चोरी के संदेह के आधार ये लोग शिवाजी पार्क के शिकारीबास मोहल्ला निवासी मैना देवी (55) पत्नी अशोक सिंह, उसके बेटे गोपालसिंह (27) पुत्र अशोक सिंह और राजू (40) पुत्र मूलचंद सैनी को सोमवार सुबह करीब दस बजे बिजलीघर चौराहा से पकडकऱ श्योलालपुरा मोहल्ले में ले आए। इसके बाद तीनों को रस्सी से बिजली के खंभे से बांध दिया। वहां मौके पर जमा भीड़ ने मैना देवी, गोपाल और राजू के साथ लात-घूंसों और लाठी-डंडों से बुरी तरह से मारपीट की। जिससे गोपाल के सिर, मुंह व हाथ-पैरों तथा मैना देवी और राजू के नाक, कान, चेहरे और शरीर के कई हिस्सों में गंभीर चोटें आई तथा वे लहूलुहान हो गए। घटना की सूचना मिलने के बाद सीओ सिटी राजेन्द्र कुमार व कोतवाल राजेश शर्मा मय जाप्ता करीब 10.55 बजे श्योलालपुरा मोहल्ला पहुंचे। पुलिस ने खंभे से बांधकर बंधक बनाए गए मैना देवी, गोपाल सिंह और राजू को मुक्त कराया और इलाज के लिए तुरंत सामान्य अस्पताल पहुंचाया। इसके बाद घायलों का इलाज व मेडिकल कराया गया। कुछ देर बाद पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम भी सामान्य अस्पताल पहुंची और पुलिस अधिकारियों व घायलों से घटना की जानकारी ली।

सात जने गिरफ्तार, मामला दर्ज

शहर कोतवाली थानाधिकारी राजेश शर्मा ने बताया कि घटना के सम्बन्ध में पुलिस ने श्योलालपुरा मोहल्ला निवासी भारत पुत्र चिरंजीलाल कोली, चुन्नीलाल पुत्र भूराराम कोली, जगदीश प्रसाद पुत्र घनश्याम दास कुमावत, बाबूलाल पुत्र घनश्यामदास कुमावत, राजू पुत्र चेतराम कोली, रवि पुत्र पप्पूराम कुमावत और पुष्पा देवी पत्नी बाबूलाल कुमावत को गिरफ्तार किया है। पीडि़त गोपालसिंह की रिपोर्ट के आधार पर आरोपियों के खिलाफ अपहरण कर बंधक बना मारपीट करने का मामला दर्ज किया गया है।

मोबाइल से वीडियो बनाते रहे, छुड़ाया किसी ने नहीं

श्योलालपुरा मोहल्ले में चोरी के संदेह पर एक महिला और दो पुरुषों को खंभे से बांधकर मारपीट की घटना के दौरान मोहल्ले के काफी लोगों की भीड़ मौके पर जमा रही। भीड़ में जिसका मौका लग रहा था वो उन तीनों के साथ मारपीट कर रहा था। वहीं कुछ लोग मोबाइल से घटना के फोटो और वीडियो बनाते रहे, लेकिन किसी ने उन्हें भीड़ से बचाने का प्रयास नहीं किया।

हो सकती थी बड़ी घटना

श्योलालपुरा मोहल्ले में तीन जनों को बंधक बनाकर मारपीट करने की घटना का पता चलते ही तुरंत पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए और तीनों को भीड़ के कब्जे से मुक्त करा लिया। यदि पुलिस लापरवाही बरतती और देरी से पहुंचती तो बड़ी घटना घटित हो सकती थी।
तीन रिक्शे चोरी, पुलिस ने नहीं लिखी रिपोर्ट

उधर, मारपीट के आरोपी चुन्नीलाल का कहना है कि मोहल्ले से उसका, बाबूलाल व राजू के तीन रिक्शे चोरी हो चुके हैं। दो दिन पहले रिक्शा चोरी की रिपोर्ट लिखवाने कोतवाली थाने आए, लेकिन पुलिस ने उनकी रिपोर्ट नहीं लिखी। सोमवार सुबह एक महिला सहित दोनों व्यक्तियों के संदिग्ध अवस्था में मोहल्ले में घूमने की सूचना मिली। जिनका पीछाकर उन्हें पकड़ लिया। पकडऩे के बाद उन्होंने रिक्शा चोरी की बात भी कबूल की तथा दो हजार रुपए में रिक्शा चोरी कर बेचने की बात कही।
पूर्व में भी हो चुकी है कई मॉब लिंचिंग की घटना

अलवर जिला मॉब लिंचिंग की घटनाओं से बदनाम रहा है। यहां पूर्व में भी पहलू खां व रकबर मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं हो चुकी हैं। जिसके कारण अलवर को देश-दुनिया में शर्मसार होना पड़ा। इसके अलावा भी अलवर में कई मॉब लिंचिंग की घटनाएं हो चुकी हैं।

Alwar: Mob Beat Three People In Doubt Of Theft

पीडि़ता बोली....पुलिस नहीं आती तो जान से मार देते

पीडि़त बुजुर्ग महिला मैना देवी का कहना है कि उन्होंने कोई रिक्शे चोरी नहीं किए हैं। मोहल्ले के लोगों ने उसे, उसके बेटे गोपाल और राजू को बिजली के खंभों से बांधकर लाठी-डंडों से बहुत की बेरहमी से पीटा। यदि पुलिस समय पर नहीं पहुंचती तो ये लोग उन्हें पीट-पीटकर जान से मार देते। वहीं, आरोपी चुन्नीलाल और महिला पुष्पा ने कोतवाली थाने में बताया कि खंभे पर बांधने से पहले दोनों व्यक्तियों ने आपस में एक दूसरे से मारपीट की। मारपीट और बीच-बचाव में तीनों को चोटें आई हैं।

पहले पूछताछ, बाद में खोली रस्सी

घटना की सूचना के बाद जब मौके पर पुलिस पहुंची तो बुजुर्ग महिला और दोनों युवकों को खंभों से बांधा हुआ था। पुलिस अधिकारी उनकी रस्सी खोलने के बजाय बंधे-बंधे ही उनसे पूछताछ करने लगे। बाद में रस्सी खोलकर उन्हें मुक्त कराया और सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उधर, कोतवाल राजेश शर्मा का कहना है कि तीनों घायलों का अस्पताल में इलाज जारी है। उनके खिलाफ चोरी की कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई है।

अलग-अलग जगह से पकडऩा बता रहे

पीडि़त गोपाल सिंह और राजू का कहना है कि आरोपियों ने उन्हें जेल चौराहा के निकट से पकड़ा था तथा मैना देवी को शिकारीबास से पकडकऱ लाए थे। जबकि आरोपी चुन्नीलाल, बाबूलाल व पुष्पा आदि का कहना है कि उन्होंने तीनों को बिजलीघर चौराहे से पकड़ा था।

भीड़ ने मारपीट की

श्योलालपुरा मोहल्ले में एक महिला और दो पुरुषों को भीड़ ने चोरी के संदेह पर बंधक बनाकर मारपीट की है। इस घटना के सम्बन्ध में एफआइआर दर्ज कर सात आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए अनुसंधान शुरू कर दिया गया है।
- तेजस्विनी गौतम, जिला पुलिस अधीक्षक, अलवर।

Lubhavan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned