अलवर में तूफान के बाद पानी के लिए मारामारी, कलक्टर साहब कर रहे गुलाब जामुन पार्टी

अलवर में तूफान के बाद पानी के लिए मारामारी, कलक्टर साहब कर रहे गुलाब जामुन पार्टी

Prem Pathak | Publish: May, 05 2018 02:39:09 PM (IST) Alwar, Rajasthan, India

अलवर में एक तरफ पानी के लिए मारामारी है, वहीं दूसरी ओर कलक्टर व अधिकारियों की गुलाब जामुन पार्टी चल रही है।

पुरानी कहावत है कि रोम जल रहा था और नीरो बांसुरी बजा रहा था। नई कहावत हो सकती है कि अलवर अस्त व्यस्त है और प्रशासन गुलाब जामुन खाने में मस्त है। गुलाब जामुन भी उसी दफ्तर में बने और गटके गए जहां से पूरे जिले को एक उम्मीद रहती है। बुधवार शाम आए तूफान से जिले में 10 लोगों की मौत हो चुकी है। सैकड़ों लोग घायल हैं। व्यापार पूरी तरह से ठप हैं। दो दिन से जिला मुख्यालय पर ही बिजली बंद है। गांवों के भयावह हालात की कल्पना की जा सकती है। जगह-जगह बिजली के तार टूटे हुए हैं। बिजली के खंबे गिरे हुए हैं। 10 हजार से अधिक पेड़ तो अलवर शहर में ही तूफान की भेंट चढ़ चुके हैं। कई मकान, दुकान धराशायी हो गए। अधिकांश रास्ते इसके चलते बंद हैं। सबसे चिंताजनक बात ये है कि घरोंं में पीने और आटा गूंथने तक का पानी नहीं है। दुकानों पर मिनरल वाटर के स्टॉक तक समाप्त हो चुके हैं। टैंकर माफिया मुंहमांगे दाम मांग रहे हैं। पानी के कैम्पर की कीमत भी तीन गुना वसूली जा रही है। कुछ सम्पन्न लोगों ने थक हार कर गिने चुने होटलों में कमरे ले लिए हैं। आम आदमी कहां जाए? होटलों में भी संसाधन समाप्त होने के कारण बुकिंग रद्द कर दी गई है। बिजली और पानी की व्यवस्था नहीं होने के कारण अधिकांश स्कूलों ने अघोषित अवकाश कर रखा है। दो दिन से करीब-करीब 90 फीसदी शहरवासियों का पूरा समय घर के लिए पीने के पानी का प्रबंध करने में लग रहा है।

आजादी के बाद से अलवर में इससे विपरीत हालात कभी नहीं हुए हैं। जिला त्रस्त है और खेवनहारों के यहां विदाई और स्वागत पार्टियां चल रही हैं। होना तो ये चाहिए कि राज्य सरकार को तत्काल ही अगले कुछ दिनों तक अलवर में किसी भी प्रकार के ट्रांसफर और पोस्टिंग पर रोक लगानी चाहिए। जबकि हो ये रहा है कि तबादला सीजन में हर अधिकारी-कर्मचारी मनमाफिक पोस्टिंग के लिए जयपुर की परिक्रमा लगा रहा है। ऐसे में जिले का आपदा प्रबंधन जिनके हाथों में है वे बेपरवाह से हो गए हैं। इस बीच कुछ संस्थाओं, बिजली निगम के कर्मचारियों, ठेका कर्मचारियों, अधिकारियों और सबसे बढकऱ लाइनमैनों को दाद देनी होगी। वे दिन-रात भूख-प्यास और अपने परिवारों की परवाह किए बिना कर्तव्य पालन कर रहे हैं। प्रशासन आज भी अंग्रेजी मानसिकता में ही लगता है।

आमजन के दु:ख दर्द की अगर पड़ी होती तो कलक्टर की विदाई और स्वागत पार्टी नहीं होती। पूरा प्रशासन जिला मुख्यालय सहित गांव-ढाणियों में तूफान प्रभावित जनता के बीच होता। जबकि यहां खुद की मिजाजपुर्सी के अलावा शायद ही कुछ हो रहा है। आम नागरिक के घर में घुप अंधेरा छाया हुआ है। सारी बिजली खींचकर रात को कलक्ट्रेट को सतरंगी रोशनी में नहलाया गया। इसे ही तो जले पर नमक कहते हैं। जिलेभर के तमाम प्रशासनिक अधिकारी जनता के दु:ख दर्द को छोडकऱ मिजाजपुर्सी के इस उत्सव में मशगूल जरुर होंगे, पर आमजन के दर्द को वे इससे बढ़ा ही गए।

जनप्रतिनिधि भी दुख की इस घड़ी में जनता के साथ खड़े नजर नहीं आ रहे हैं। प्रभावशाली अधिकारी और नेता तो प्रशासन से सबसे पहले अपने लिए बिजली-पानी का जुगाड़ कराने में लगे हैं। जनता को समझ में नहीं आ रहा है कि इन हालात में क्या करें? किससे कहें? नेताओं को तो चुनावों के समय सबक सिखाने की कुंजी हाथ में है। पर अंग्रेजों के जमाने की नौकरशाही पर जनता का बस नहीं चलता है। प्रशासन जनता के जले पर नमक छिडकऩा बंद करे यही उम्मीद है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned