अलवर की गाजूकी नदी का गला घोंट रहे रसूखदार, नदी के बीच ही दीवार देकर भर रहे मिट्टी

Prem Pathak

Publish: Mar, 14 2018 05:12:09 PM (IST)

Alwar, Rajasthan, India
अलवर की गाजूकी नदी का गला घोंट रहे रसूखदार, नदी के बीच ही दीवार देकर भर रहे मिट्टी

अलवर की गाजूकी नदी में अवैध निर्माण चरम पर है। रसूखदार इसका गला घोटने पर तुले हैं, लेकिन प्रशासन अब भी मौन है।

अलवर. बहुत बार रसूखदारों के आगे सरकार व प्रशासन बौना पड़ता है। तभी तो तिजारा रोड पर अलवर शहर से सटी गाजूकी नदी का गला घोंटा जा रहा है। यहां न राजस्व रिकॉर्ड की पालना कराई जा रही और न ही प्रशासन के आदेशों की। और तो और वर्षों पुरानी नदी का बहाव क्षेत्र भी दबाया जा रहा है। इस बहाव क्षेत्र के आधार पर कई दशक पहले गाजूकी पुलिया बनाया गया। उस सीमा को भी नजरअंदाज किया गया है। पुलिया के भीतर के हिस्से में पक्का निर्माण हो रहा है। ऊंची-ऊंची पक्की दीवारें बनाने के बाद नदी के पेटे को मिट्टी से भरा जा रहा है, ताकि उसे पुलिया के बराबर कर नदी के बहाव को पूरी तरह रोक दिया जाए।

इस समय गाजूकी पुलिया के नीचे शहर की तरफ के हिस्से में बड़ी जमीन पर चारदीवारी का कार्य चल रहा है। दीवार लगाने के साथ नदी के पेटे में बाहर से मिट्टी लाकर भरी जा रही है। अब्दुल रहमान बनाम सरकार के मामले में सुप्रीम कोर्ट के साफ आदेश हैं कि नदी, नाले, बावड़ी व अन्य प्राकृतिक जल स्रोतों के मूल स्वरूप से किसी भी तरह की छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। यहां तो पुलिया की लम्बाई और पुराने बहाव क्षेत्र से जमीन का स्वरूप ही बता रहा है कि नदी का बहाव क्षेत्र कितना है। फिर भी दोनों तरफ ऊंची-ऊंची दीवारें खड़ी कर दी गई। अब मिट्टी डाली जा रही है।

बकायदा बोरवेल भी बना दिया

नदी के पेटे में दीवार देकर मिट्टी डाली। बकायदा बिना मंजूरी के बोरवेल खोद दिया, जबकि गाजूकी नदी में सरकारी बोरवेल से शहर में पानी सप्लाई हो रहा है। पुलिया के नीचे की तरफ जाने वाले रास्ते बंद कर दिए गए। पूरी तरह से मनमर्जी हो रही है।

ग्रामीणों ने शिकायत भी की

इस निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने शिकायत भी की है। पक्का निर्माण होने के कारण आगे के खेतों में जाने वाले रास्ते बंद हो गए। पहले ग्रामीण पुलिया के नीचे से दूसरे खेतों में निकलते थे। वे रास्ते भी बन्द होने से दिक्कतें खड़ी हो गई हैं।

जब पानी आए तो मुश्किलें सबको

जिस दिन तेज बारिश होगी तब सबके सामने मुश्किलें होंगी। प्रशासन के भी हाथ-पांव फूल जाएंगे। जब बारिश का पानी आगे नहीं निकलेगा और आसपास बसे घर डूबेंगे। उस समय बिना किसी विलम्ब के प्रशासन को यही निर्माण सबसे पहले तोडऩे पड़ेंगे।

अतिक्रमण चिह्नित कर लिया

जिस जमीन पर चारदीवारी कर मिट्टी डालने का कार्य हो रहा है। उस जगह की पैमाइश करा ली है। अतिक्रमण भी मिला है। जो चिह्नित कर लिया है। संभवतया जल्दी कार्रवाई भी होगी। नदी का बहाव क्षेत्र रुकने नहीं दिया जाएगा।
-घमण्डीराम, नायब तहसीलदार, बहादरपुर

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned