राहुल गांधी को इस प्रत्याशी ने दिया झटका, टिकट मिलने के बावजूद बतौर निर्दल भरा पर्चा

राहुल गांधी को इस प्रत्याशी ने दिया झटका, टिकट मिलने के बावजूद बतौर निर्दल भरा पर्चा
Ajra sultana

Shatrudhan Gupta | Updated: 07 Nov 2017, 10:19:14 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

एक महिला उम्मीदवार ने कांग्रेस से नामांकन न भरते हुए बतौर निर्दल प्रत्याशी के रूप में फॉर्म भरा।

अम्बेडकर नगर. कांग्रेस पार्टी के लिए एक आत्मचिंतन करने वाली खबर है। आत्म चिन्तन इस बात की कि आजकल कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी में जान फूंकने के लिए जिस तरह से घूम-घूम कर बयान बाजी करते देखे जा रहे हैं। साथ ही उनकी पार्टी के कई नेता और प्रवक्ता अपने बयानों को लेकर लगातार चर्चा में बने रहते हैं। क्या इन बयान बाजियों से कांग्रेस को कोई फायदा मिल रहा है या यह सब केवल हवा हवाई ही साबित हो रहा है। पार्टी से कार्यकर्ता और नेता क्यों किनारा कर रहे हैं। इस सब को अब इचर्चा शुरू हो गई है। ताजा घटनाक्रम के तहत मंगलवार को कांग्रेस से टिकट मिलने के बावजूद एक महिला उम्मीदवार ने कांग्रेस से नामांकन न भरते हुए बतौर निर्दल प्रत्याशी के रूप में फॉर्म भरा। इसकी खबर लगते ही जहां कांग्रेस में हड़कंप मच गया, वहीं अन्य विपक्षी दल चौक गए।

मामला अम्बेडकर नगर जिले के नगर पालिका टांडा का है, जहां दूसरे चरण में होने वाले चुनाव के लिए किए जा रहे नामांकन में कांग्रेस से अजरा सुल्ताना टिकट मांग रही थीं, जिन्हें पार्टी ने टिकट दे भी दिया, लेकिन जब वे अपना नामांकन दाखिल करने छह नवम्बर को गईं तो कांग्रेस के बजाय बतौर निर्दल प्रत्याशी नामांकन दाखिल किया। इसकी जानकारी जब कांग्रेस जिलाध्यक्ष को हुई हड़कंप मच गया। जब पूछताछ हुई तो 7 नवम्बर को अंतिम दिन अजरा सुल्ताना ने फिर से एक और नामांकन पत्र दाखिल किया, लेकिन इस बार भी उन्होंने निर्दल के रूप में पर्चा भरा।

पूर्व मे नगर पालिका अध्यक्ष रह चुकी हैं अजरा

निर्दल प्रत्यासी के रूप में अपना नामांकन करने वालीं अजरा सुल्ताना पूर्व में 1997 में नगर पालिका टांडा की अध्यक्ष चुनी गई थीं। उसके बाद से दोबारा हुए चुनाव में उन्होंने कभी जीत हासिल नहीं की। एक बार ये कांग्रेस से लोकसभा का चुनाव भी अकबरपुर सीट से लड़ चुकी हैं, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इस बार नगर पालिका चुनाव में वे फिर से भाग्य आजमाने के लिए मैदान में उतरीं, लेकिन कांग्रेस की हालत पतली देख पाला बदल लिया और बतौर निर्दल नामांकन भरा।

कांग्रेस के नेता अब दे रहें सफाई

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की हालत किसी से छिपी नहीं है। पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया, जिसके बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी लगातार पार्टी को बचाने के लिए दौरे कर रहे हैं। प्रदेश में कांग्रेस को बचाने के लिए राज बब्बर जैसे सेलिब्रिटी और गुलाम नबी जैसे धुरंधर राजनीतिज्ञों को मैदान में उतारा गया है, लेकिन स्थिति में कोई बदलाव होता दिखाई नहीं पड़ रहा है। शायद इसी वजह से अजर सुल्ताना ने कांग्रेस से चुनाव लडऩे के बजाय निर्दल लडऩा ज्यादा मुनासिब समझा।

पार्टी से निष्कासित किया जाएगा

अम्बेडकर नगर में कांग्रेस के जिलाध्यक्ष मेराजुद्दीन किछौछवी अजरा सुल्ताना के इस कदम को पार्टी को धोखा देनेवाला बता रहे हैं। पत्रिका से बातचीत करते हुए उन्होंने कहाकि उन्हें अगर कांग्रेस से चुनाव नहीं लडऩा था तो टिकट क्यों मांगा और अंतिम समय पर निर्दल नामांकन कराकर पार्टी के साथ धोखा किया है, जिसके कारण उन्हें जल्द ही पार्टी से निष्कासित किया जाएगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned