जिलाधिकारी का इन विभागों पर चला चाबुक, इन अधिकारियों के छूटे पसीने

जिलाधिकारी ने जब पीडब्लूडी समेत कई विभागों के कार्यालय का निरीक्षण किया तो अधिकारी सहित अधिकांश कर्मचारी नदारद मिले।

By:

Published: 23 Jul 2018, 10:32 PM IST

अम्बेडकर नगर. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी के कई निर्देशों और आदेशों के बावजूद जिले में विभागों के अधिकारी और कर्मचारी बेंअदाज हो चले हैं। इन पर आम जनता और किसानों को सरकार की योजनाओं को पहुंचाने की जिम्मेदारी है। साथ ही सरकार इन अधिकारियों को लाखों रुपये वेतन सिर्फ इसलिए देती है कि ये समय पर कार्यालय पहुंच कर लोगों की शिकायतें सुनकर उसका निराकरण कराएं, लेकिन कर्मचारियों को कौन कहे अधिकांश विभागों के अधिकारी पर सरकार के निर्देशों का कोई फर्क नहीं दिखाई दे रहा है और अपनी जिम्मेदारियों को मौज मस्ती का जरिया बना चुके अधिकारी और कर्मचारी जब मर्जी तब आफिस आने के फार्मूले पर चल रहे हैं। जिलाधिकारी सुरेश कुमार ने आज जब पीडब्लूडी और कृषि विभाग समेत कई अन्य विभागों के कार्यालय का औचक निरीक्षण किया तो चौकाने वाली सच्चाई सामने आई। इन विभागों में अधिकारी सहित अधिकांश कर्मचारी नदारद मिले।

इस समय सारणी का नही है ध्यान

शासन के कड़े निर्देश हैं कि सभी विभागों के अधिकारी और कर्मचारी अपनी ऑफिसों में सुबह 9 बजे ही बैठ कर जनता की समस्यायों की सुनवाई और उसका निस्तारण करेंगे, लेकिन अम्बेडकरनगर जिले के अधिकारी और कर्मचारी है की इन्हे न तो जनता की परेशानी से कोई सरोकार है और न ही शासन के आदेशों की कोई परवाह। जिलाधिकारी के औचक निरिक्षण में जहाँ विभागों के दर्जन भर से अधिक कर्मचारी नदारत मिले तो वही , कृषि उप निदेशक भी दोपहर तक अपनी आफिस में नहीं पहुंचे थे।

लगातार मिल रही थी डी एम को शिकायत-

लगातार शिकायते मिलने के बाद जिलाधिकारी ने कई विभागों में छापे मारी की। जिलाधिकारी का काफिला जब PWD कार्यालय पहुंचा तो वहां चौकाने वाला नज़ारा था, मुख्य मंत्री के कड़े निर्देशों के बावजूद दर्जन भर से अधिक कर्मचारी अपनी आफिस से नदारत मिले। कृषि विभाग की हालत तो और ही खराब नजर आई। जहां एक तरफ इंद्र देवता किसानो से नाराज हैं और जिले में बारिश न के बराबर है। किसान खेती के समय बदहाल हैं और बीज और खाद के लिए अधिकारियों के चक्कर लगा रहा है, वही जब जिलाधिकारी कृषि विभाग पहुंचे तो हैरान रह गए। कर्मचारी को तो छोड़ दीजिए कृषि उप निदेशक ही अपनी ऑफिस में दोपहर 12:30 तक नहीं पहुंचे थे। नाराज जिलाधिकारी ने फोन पर ही कृषि उपनिदेशक को फटकार लगायी और ऑफिस न पहुंचने के लिए स्पष्टीकरण मांगा | आनन फानन में ऑफिस पहुंचे कृषि उप निदेशक राम दत्त बागला को डी एम ने जमकर फटकार लगायी |
जिलाधिकारी ने बताया की शासन की मंसा है कि सभी विभागों के अधिकारी समय से अपनी ऑफिसों में बैठे और जनता की समस्याएं सुने | उन्होंने बताया कि कई विभागों में छापे की गयी, जिसमे बिना किसी कारण कई कर्मचारी और अधिकारी ऑफिस में नहीं मिले , जिनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है | उन्होंने बताया कि उप कृषि निदेशक 12:30 बजे तक अपनी आफिस नहीं पहुंचे थे मेरे आने के बाद आएं है, इनसे भी स्पष्टीकरण मांगा है |

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned