जेलर के शासकीय आवास में रखी पेटी खुली तो Police के उड़ गए होश, प्रहरी गया Jail

जेलर के खाली आवास में अस्थायी रूप से रह रहे थे प्रहरी, एक प्रहरी ने पेटी के भीतर रखा था आपत्तिजनक सामान, गिरफ्तार कर भेजा जेल

By: rampravesh vishwakarma

Published: 16 Sep 2017, 02:29 PM IST

बैकुंठपुर. कोरिया जिले के बैकुंठपुर जेल के जेलर कुछ महीनों से शासकीय आवास को खाली कर दूसरी जगह रह रहे थे। जेलर के खाली पड़े इस आवास में ४ जेल प्रहरी अस्थायी रूप से रह रहे थे। इस दौरान आरोपी प्रहरी ने दूसरे प्रहरी की पेटी का ताला तोड़कर उसमें देशी कट्टा रख दिया था।

इसकी जानकारी जब अन्य प्रहरियों को लगी तो उन्होंने जेल अधीक्षक के माध्यम से थाने में मामले की शिकायत की। रिपोर्ट पर बैकुंठपुर पुलिस ने जांच पश्चात कट्टा रखने वाले प्रहरी को आम्र्स एक्ट के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। जबकि प्रहरी जिसकी पेटी से देशी कट्टा बरामद हुआ है उससे पुलिस पूछताछ कर रही है।


बैकुंठपुर जिला जेल के जेल अधीक्षक आरके सिंह केसर को परिसर में ही शासकीय आवास उपलब्ध कराया गया था। उक्त आवास को खाली कर जेलर कुछ महीने से दूसरी जगह रह रहे थे। इस दौरान खाली आवास में जेल प्रहरी नवल किशोर यादव, योगेश्वर साहू, नन्द कुमार वर्मा व रुपेश वार्ले अस्थायी रूप से रह रहे थे। यहां प्रहरी प्रमोद सिंह ने अपनी किट पेटी रखकर उसमें ताला लगा दिया था।

इधर मौका पाकर इस पेटी का ताला तोड़कर जेल प्रहरी संजय कुमार यादव ने एक देशी कट्टा रख दिया था। इसकी जानकारी जब चारों प्रहरियों को लगी तो उन्होंने मामले की शिकायत जेल अधीक्षक से की। जेल अधीक्षक ने बैकुंठपुर थाने में शिकायत पत्र देकर जांच करने कहा। शिकायत के आधार पर पुलिस ने जेल अधीक्षक सहित चारों प्रहरियों का बयान दर्ज किया। प्रहरियों ने अपने बयान में बताया कि प्रहरी संजय कुमार यादव ने प्रमोद सिंह की किट पेटी में देशी कट्टा छिपाकर रखा था।

12 सितंबर की रात वह पेटी का ताला तोड़कर कट्टा लेकर चला गया था। उन्होंने मामले की शिकायत 13 सितंबर को की थी। बयान के आधार पर पुलिस ने प्रहरी संजय कुमार यादव को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पूछताछ में उसने देशी कट्टा रखे होने की बात स्वीकार कर ली।

इस पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर धारा 25-27 आम्र्स एक्ट के तहत न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। वहीं पुलिस दूसरे प्रहरी प्रमोद सिंह से पूछताछ कर रही है।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned