सेटिंग कर फर्म ने जीएम से जारी करा लिया फर्जी प्रोडक्शन सर्टिफिकेट, अवर सचिव ने दिए जांच के निर्देश

Fake certificate: आरटीआई कार्यकर्ता की शिकायत (Complaint) पर जांच के निर्देश जारी, महाप्रबंधक कार्यालय (GM office) में झूठी जानकारी देने का आरोप

By: rampravesh vishwakarma

Published: 02 Mar 2021, 08:49 PM IST

अंबिकापुर. आरटीआई कार्यकर्ता डीके सोनी (RTI Activist) द्वारा मेसर्स श्याम टेक्सटाइल, उद्योग विभाग के महाप्रबंधक अब्दुल शाकिर तथा तथा संलग्न अन्य अधिकारियों के विरूद्ध फर्जी तरीके से प्रोडक्शन सर्टिफिकेट (Fake Production Certificate) जारी करने के संबंध में अपराधिक प्रकरण दर्ज कराए जाने तथा पंजीयन निरस्त किए जाने हेतु प्रमुख सचिव छत्तीसगढ़ शासन एवं उद्योग विभाग मंत्रालय महानदी भवन रायपुर के समक्ष शिकायत आवेदन प्रस्तुत किया गया था। इसमें अवर सचिव ने फर्म व महाप्रबंधक के खिलाफ जांच के निर्देश दिए हैं।


आरटीआई कार्यकर्ता ने शिकायत में बताया है कि फर्म के प्रोपराइटर द्वारा महाप्रबंधक कार्यालय (GM office) में झूठी जानकारी देकर 3 जून 2020 को प्रोडक्शन सर्टिफिकेट जारी कराया गया है, जबकि उक्त अवधि में किसी भी प्रकार का प्रोडक्शन मेसर्स श्याम टेक्सटाइल द्वारा नहीं किया जा रहा था।

चूंकि मेसर्स श्याम टेक्सटाइल का उद्योग कपड़ा से संबंधित है लेकिन अपने टेक्सटाइल में उनके द्वारा उक्त अवधि में कांक्रीट, फेंसिंग पोल, चैन लिंक एवं वारवेट वायर इत्यादि के निर्माण का उल्लेख किया गया है तथा वर्तमान में भी उपरोक्त कार्य कराया जाना बताया जा रहा है।

मार्च 2020 से जुलाई 2020 तक कोविड-19 का दौर चल रहा था उस समय सभी कार्यालय बंद रहते थे, लेकिन मेसर्स श्याम टेक्सटाइल द्वारा सब्सिडी का लाभ लेने के लिए महाप्रबंधक से गलत प्रोडक्शन सर्टिफिकेट जारी कराया गया है। ये सब कुछ महाप्रबंधक व अधिकारियों की मिलीभगत से हुआ है।


अवर सचिव ने दिए जांच के निर्देश
आरटीआई कार्यकर्ता (RTI activist) द्वारा की गई शिकायत की गंभीरता को देखते हुए कार्यालय अवर सचिव छत्तीसगढ़ शासन वाणिज्य एवं उद्योग विभाग रायपुर द्वारा संचालक उद्योग संचनालय उद्योग भवन रायपुर को एक पत्र भेजकर मामले की जांच करने हेतु आदेशित किया गया है।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned