हेल्थ सचिव-कमिश्नर की दो टूक सुन मेडिकल कॉलेज की मान्यता बचाने इस लेडी IAS ने संभाली कमान

rampravesh vishwakarma

Publish: Sep, 16 2017 03:53:12 (IST)

Ambikapur, Chhattisgarh, India
हेल्थ सचिव-कमिश्नर की दो टूक सुन मेडिकल कॉलेज की मान्यता बचाने इस लेडी IAS ने संभाली कमान

एमसीआई द्वारा गिनाई गईं हर एक खामियों को दूर करने प्रशासन ने झोंकी पूरी ताकत, अब सभी कामों की कलक्टर करेंगी मॉनिटरिंग

अंबिकापुर. गत दिनों एमसीआई की टीम के मेडिकल कॉलेज के निरीक्षण के बाद कई खामियां उजागर होने के बाद शासन के हेल्थ डिपार्टमेंट के दो बड़े अफसरों के आनन-फानन में मेडिकल कॉलेज पहुंचकर मान्यता बचाने के लिए सारी कमियों को दूर करने के निर्देश पर जिला प्रशासन ने तेजी से काम करना शुरू कर दिया है। अब खुद कलक्टर किरण कौशल मेडिकल कॉलेज में चल रहे कामों की मॉनिटरिंग कर रहीं हैं।

शनिवार को भी कलक्टर ने पूरे अमले के साथ मेडिकल कॉलेज अस्पताल का निरीक्षण कर अधिकारियों को मेडिकल कौंसिल ऑफ इंडिया के मानकों के अनुरूप अस्पताल में आवश्यक सुधार व विस्तार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने प्रबंधन व निर्माण कार्य की देखरेख कर रहे अधिकारियों को दो टूक कह दिया है कि अब किसी प्रकार की कमी नहीं दिखनी चाहिए।


गौरतलब है कि पिछले दिनों एमसीआई की टीम ने मेडिकल कॉलेज व अस्पताल का निरीक्षण किया था। निरीक्षण में टीम को कई खामियां मिलीं थी जो पुरानी होने के बावजूद दूर नहीं की गई थी। इसकी वजह से ये सत्र जीरो ईयर घोषित कर दिया गया था। इस बार के भी निरीक्षण में टीम संतुष्ट नजर नहीं आई और खामियां गिनाकर चली गई। एमसीआई के निरीक्षण के बाद हेल्थ सेक्रेटरी सुब्रत साहू व हेल्थ डायरेक्टर आर प्रसन्ना 14 सितंबर को आनन-फानन में हेलीकॉप्टर से अंबिकापुर पहुंचे और मेडिकल कॉलेज व अस्पताल का निरीक्षण कर प्रबंधन व प्रशासन को एमसीआई के मानक के अनुरूप सारी व्यवस्था दुरूस्त करने के निर्देश दिए थे।

अधिकारियों ने अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही पर नाराजगी जताते हुए डीन की क्लास भी लगाई थी। मेडिकल कॉलेज की नए सत्र की मान्यता बचाने जिला प्रशासन ने कमर कस ली है। शनिवार को कलक्टर किरण कौशल ने अमले के साथ मेडिकल कॉलेज अस्पताल का निरीक्षण कर डीन डॉ. पीएम लुका, अस्पताल अधीक्षक डॉ. एके जायसवाल, उप अधीक्षक डॉ. व्हीके श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एनके पाण्डेय को मेडिकल कौसिंल ऑफ इण्डिया के मानकों के अनुरूप जिला अस्पताल में आवश्यक सुधार एवं विस्तार करने के निर्देश दिए हैं।

कलक्टर ने एसडीएम पुष्पेन्द्र शर्मा, निगम आयुक्त सूर्यकिरण तिवारी एवं अस्पताल प्रबंधन के अधिकारियों के साथ दवा वितरण कक्ष, ऑपरेशन थिएटर एवं आपातकालीन ऑपरेशन थिएटर, भेषज, शल्य क्रिया, नाक, कान, गला, चर्म रोग विभाग, मेडिकल वार्ड, आईसीयू भवन, ड्रेनेज सिस्टम, नेत्र चिकित्सा विभाग तथा अस्पताल परिसर के समीप स्थित लोक निर्माण विभाग के राष्ट्रीय राजमार्ग के एसडीओ एवं संभागीय कार्यालय तथा लोक निर्माण विभाग के इलेक्ट्रिकल एण्ड मेकेनिकल कार्यालय भवन का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अस्पताल की काउन्सलर प्रियंका कुरील सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।


नए भवनों का होगा निर्माण
कलक्टर ने एमसीआई के दिशा-निर्देशों के अनुरूप भेषज, शल्य क्रिया, चर्म रोग, नाक, कान, गला, सहित अन्य विभागों के लिए ओपीडी के साथ ही लेक्चर रूम एवं डिमान्सट्रेशन रूम बनाने हेतु अस्पताल परिसर में स्थित भवनों एवं रिक्त स्थानों का चिन्हांकन करते हुए लोक निर्माण विभाग के उप अभियंता को निर्देशानुसार कार्यवाही सुनिश्चित करने निर्देशित किया। जिन प्रयोजनों के लिए वर्तमान भवन में स्थान उपलब्ध नहीं है, उन प्रयोजनों के लिए अस्पताल परिसर के आसपास नए भवन बनाने के निर्देश कलेक्टर द्वारा दिए गए।


वर्तमान भवन में कई सुधार व विस्तार की आवश्यकता
कलक्टर द्वारा जिला अस्पताल में आवश्यक सुधार एवं विस्तार हेतु जिला खनिज संस्थान न्यास से लगभग 3 करोड़ की राशि स्वीकृत की गई है। गौरतलब है कि मेडिकल कौसिंल ऑफ इण्डिया द्वारा प्रत्येक चिकित्सा विभाग के बाह्य एवं आंतरिक मरीजों की चिकित्सा कक्ष के साथ ही लेक्चर एवं डिमान्सट्रेशन कक्ष बनाने के निर्देश दिए गए हैं। वर्तमान में मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल जिला अस्पताल के भवन में संचालित है, जिसके मेडिकल कॉलेज अस्पताल के रूप में संचालन करने हेतु वर्तमान भवन में अनेक सुधार एवं विस्तार की आवश्यकता है।


सफाई कार्य में लगेंगे 74 कर्मचारी
कलक्टर ने निगम आयुक्त सूर्यकिरण तिवारी एवं अस्पताल के स्टीवर्ड अमरनाथ कश्यप को अस्पताल परिसर से पानी निकासी हेतु निश्चित अंतराल पर नालियों की सफाई कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने स्टीवर्ड को 74 कर्मचारियों को अस्पताल के आंतरिक एवं बाह्य सफाई कार्य में लगाने हेतु रोस्टर बनाने निर्देशित किया है। उन्होंने निगम आयुक्त को भी नालियों की सफाई सुनिश्चित करने हेतु सतत् निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं।

अस्पताल प्रबंधन के अधिकारियों से कचरे में इंजेक्शन के निडिल सहित अन्य नुकसानदायक पदार्थों को अलग कर एसएलआरएम सेंटर की महिलाओं को कचरा देने कहा है। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के उप अभियंता प्रकाश सिन्हा को ऑपरेशन थिएटर एवं ओपीडी कक्ष को जोडऩे वाले दरवाजे पर चिकने टाइल्स को खुरदरा करने के निर्देश दिए हैं। इस ढलान पर लोगों के फिसलने की आशंका बनी रहती है।


रामानुज क्लब परिसर में खुलेगा दाल-भात सेंटर
कलक्टर ने मेडिकल अस्पताल के समीप स्थित रामानुज क्लब परिसर में दाल-भात केन्द्र खोलने के निर्देश दिए हैं, ताकि गरीब परिवार के लोगों को अस्पताल परिसर के समीप ही कम कीमत पर गुणवत्तापूर्ण भोजन उपलब्ध हो सके। उन्होंने दाल-भात केन्द्र में गुणवत्तापूर्ण भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned