अमरीका ने भारत को सशस्त्र ड्रोन बेचने की मंजूरी दी, मिसाइल रक्षा प्रणाली की भी पेशकश

अमरीका ने भारत को सशस्त्र ड्रोन बेचने की मंजूरी दी, मिसाइल रक्षा प्रणाली की भी पेशकश

Mohit Saxena | Publish: Jun, 08 2019 04:43:30 PM (IST) अमरीका

  • इस फैसले से भारत-प्रशांत क्षेत्र को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी
  • अमरीका ने यह अनुमति भारतीय सीमाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखकर दी है
  • वाइट हाउस के अधिकारी के अनुसार भारत में आम चुनाव के कारण फैसले में देरी हुई

वाशिंगटन। डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने भारत में सशस्त्र ड्रोन की बिक्री को मंजूरी दे दी है। इसके साथ मिसाइल रक्षा प्रणाली को देने की पेशकश की है। इससे सैन्य क्षमताओं को बढ़ाने और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण भारत-प्रशांत क्षेत्र को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अमरीका से यह अनुमति भारत की सीमाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखकर दी गई है। 14 फरवरी के पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद 40 भारतीय सैनिक मारे गए थे। इसके बाद से भारत की सीमा पर तनाव काफी बढ़ गया। इसके अलावा भारत-प्रशांत महासागर में चीन के बढ़ते सैन्यीकरण भी चिंता का विषय है।

 

trump

भारत में सशस्त्र ड्रोन की बिक्री के समय का खुलासा नहीं

वाइट हाउस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार भारत को मिसाइल डिफेंस तकनीक के साथ हथियारबंद ड्रोन को बेचने की पेशकश की गई है। हालांकि अधिकारी ने यह खुलासा नहीं किया कि भारत में सशस्त्र ड्रोन की बिक्री कब होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच जून 2017 की बैठक के दौरान अमरीका ने भारत को गार्जियन ड्रोन बेचने पर सहमति व्यक्त की थी।

 

भारत को निर्णय लेने की प्रक्रिया में देरी हुई

भारत पहला गैर-संधि साझेदार है, जिसे एमटीसीआर श्रेणी -1 मानव रहित हवाई प्रणाली सी गार्डियन यूएएस की पेशकश की गई थी। मगर आम चुनाव के कारण भारत को निर्णय लेने की प्रक्रिया में देरी हुई। हाल के महीनों में अमरीका ने भारत को गार्जियन ड्रोन के सशस्त्र संस्करण को बेचने के अपने निर्णय के बारे में बताया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned