भारत और चीन की आर्थिक मदद को ट्रंप ने बताया पागलपन, कहा-इसे जल्द बंद करेंगे

भारत और चीन की आर्थिक मदद को ट्रंप ने बताया पागलपन, कहा-इसे जल्द बंद करेंगे

Shweta Singh | Publish: Sep, 08 2018 01:18:27 PM (IST) | Updated: Sep, 08 2018 01:44:05 PM (IST) अमरीका

ट्रंप ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) पर भी आरोप लगाया।

वाशिंगटन। वाशिंगटन। अपने अटपटे और विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप एक बार फिर ऐसा बेतुका बयान देकर सुर्खियों में हैं। इस बार उनके निशाने पर हैं भारत और चीन जैसे। दरअसल ट्रंप ने शुक्रवार को कहा कि चीन और भारत जैसे देशों की आर्थिक मदद करना 'पागलपन' है। उन्होंने कहा कि अमरीका ऐसी बढ़ती अर्थव्यस्था वाले देशों को दी जा रही मदद को रोकने की योजना बना रहा है।

अमरीका भी विकासशील देश

ट्रम्प ने कहा, वे अमरीका को भी अब विकासशील देश के रूप में ही देखते हैं। ऐसे में वे चाहते हैं कि दूनिया में चल रही विकास की दौड़ में अमरीका सबसे आगे रहे। उत्तरी डकोटा में फार्गो सिटी के एक चैरिटी कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ट्रंप ने आरोप लगाया कि विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) चीन को सबसे बड़ी आर्थिक शक्ति के रूप में उभारने में मदद कर रहा है।

हम फंडिंग रोकने वाले हैं

ट्रंप ने कहा, कुछ देश ऐसे हैं जिन्हें बढ़ती अर्थव्यवस्था माना जा सकता है लेकिन अभी वो उतने परिपक्व नहीं हुए हैं इसलिए उन्हें मदद की जरूरत है... यह मानना मूर्खतापूर्ण है। ट्रंप ने चीन और कुछ अन्य देशों का उदाहरण देकर कहा, 'ये ऐसे देश हैं जिन्हें हम कहते हैं कि अच्छा यह सच में बढ़ रहे हैं।'
अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा, 'हम खुद विकासशील देश होकर उसी श्रेणी के लोगों की आर्थिक मदद कर रहे हैं। हम उन्हें पैसा देते हैं, यह पूरी बात पागलपन है लेकिन हम इसे रोकने वाले हैं। हम विकासशील देश हैं और आगे बढ़ रहे हैं। हम किसी और से ज्यादा तेजी से बढऩे वाले हैं।'

डब्ल्यूटीओ को बताया 'सबसे बदतर'

इसके साथ ही चीन को शह देने पर ट्रंप ने डब्ल्यूटीओ पर निशाना साधा किया। चीन और अमरीका के बीच जारी ट्रेड वार पर ट्रंप ने कहा, 'मैं चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का बहुत बड़ा फैन हूं लेकिन मैंने उनसे कहा है कि हमें निष्पक्ष होना चाहिए।'

Ad Block is Banned