संयुक्त राष्ट्र में उत्तर कोरिया के खिलाफ प्रस्ताव पारित, मानवाधिकार उल्लंघन पर कड़ी निंदा की

उत्तर कोरिया के प्रतिनिधि किम सॉग ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया, कहा- जापान कर रहा दुष्प्रचार

By: Mohit Saxena

Published: 18 Dec 2018, 10:18 AM IST

वाशिंगटन। यूएन जनरल असेंबली में सोमवार को पारित एक प्रस्ताव के तहत उत्तर कोरिया पर आरोप लगे हैं कि उसके यहां लगातार मानवाधिकारों का उल्लंघन हुआ है। संयुक्त राष्ट्र ने इसकी कड़ी निंदा की है। वहीं उत्तर कोरिया के प्रतिनिधि किम सॉग ने इन आरोपों को बेबुनियाद करार दिया है। मीडिया में दिए अपने बयान में सॉग ने कहा कि यह एक साजिश के तहत किसी देश को बदनाम करने की कोशिश है। उत्तर कोरिया ने इस मामले में जापान को निशाने पर लेते हुए कहा कि वह लगातार देश के खिलाफ प्रचार कर रहा है। जबकि उसके यहां ही मानवाधिकार उल्लंघन के गंभीर मामले समाने आए हैं। उन्होंने कहा कि जापान में उच्च स्तर के अपराध हो रहे हैं। इसमें अपहरण और यौन शोषण के कई गंभीर मामले हैं,जिसमें मानवाधिकार का हनन हुआ है।

कई तरह से प्रतिबंध लग सकते हैं

सॉग ने कहा कि इन मामलों को लेकर जापान को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए। गौरतलब है कि उत्तर कोरिया में बीते कई दशकों से तानाशाह शासकों का राज रहा है। यहां पर लोकत़ांत्रिक प्रक्रिया पर विराम लगा हुआ है। विकास के मामले में भी वह अपने पड़ोसी दक्षिण कोरिया से काफी पिछड़ा हुआ है। हालांकि इस प्रस्ताव के पास होने के बाद अब उत्तर कोरिया पर यूएन की कार्रवाई की तलवार लटक गई है। मामलों की निगरानी करने के बाद अगर देश दोषी पाया जाता है तो उस पर उस पर कई तरह के प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं। इससे पहले 2014 में उत्तर कोरिया पर कई तरह से प्रतिबंध लगाने की घोषण यूएन पहले कर चुका है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned