अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप का प्रवासी बच्चों की हिरासत अवधि बढ़ाने का प्रस्ताव

अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप का प्रवासी बच्चों की हिरासत अवधि बढ़ाने का प्रस्ताव

Mangala Prasad Yadav | Publish: Sep, 07 2018 04:32:12 PM (IST) अमरीका

अमरीका में अब प्रवासी बच्चों की हिरासत अवधि बढ़ा दी जाएगी। ट्रंप ने प्रवासी बच्चों की हिरासत अवधि अनिश्चितकाल के लिए बढ़ाने का प्रस्ताव दिया है।

वाशिंगटनः अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बिना दस्तावेज के देश में रहने के कारण हिरासत में लिए गए प्रवासी बच्चों की हिरासत अवधि अनिश्चितकाल के लिए बढ़ाने का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने ऐसे बच्चों को हिरासत में 20 दिन ही रखने के न्यायिक सहमति का त्याग कर हिरासत अवधि बढ़ाने का प्रस्ताव दिया है। 'डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी' (डीएचएस) ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि सरकार की यह पहल अवैध रूप से देश में प्रवेश करने वाले बच्चों की अधिकतम हिरासत अवधि 20 दिन निर्धारित करने के 1997 में स्वीकृत तथाकथित फ्लोरस सेटलमेंट के प्रावधान को समाप्त करती है।

दबाव के बाद ट्रंप ने लिया फैसला
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यह निर्णय न्याय विभाग द्वारा बढ़ावा दी गई विवादास्पद 'जीरो टॉलरेंस' नीति के परिणामस्वरूप प्रशासन के सामने आने वाली समस्याओं के जवाब के संदर्भ में फैसला लिया गया है। यह नीति मेक्सिको के साथ लगे सीमा पर पकड़े गए प्रवासी परिवारों के सदस्यों को एक दूसरे से अलग करने की इजाजत देती है। दरअसल 'जीरो टॉलरेंस' नीति की अमरीका में भारी विरोध हो रहा है। विपक्षी दल समेत मानवाधिकार संगठन और सामाजिक संगठनों ने इस नीति की कड़ी आलोचना की है और ट्रंप से 'जीरो टॉलरेंस' नीति को वापस लेने की मांग की है।

कोर्ट में भी पहुंचा है मामला
विवादित प्रवासी नीति का मामला कोर्ट में भी गया है। अभी हाल में ही कोर्ट ने डेफर्ड एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल्स प्रोग्राम (डीएसीए) को पूर्ण रूप से बहाल करने का अपना आदेश बरकरार रखा था ऐसा करने के लिए ट्रंप प्रशासन को 20 दिनों की मोहलत दी थी। वाशिंगटन डी.सी. जिला न्यायाधीश जॉन बेट्स ने कहा था कि ट्रंप प्रशासन डीएसीए को समाप्त करने के अपने प्रस्ताव को न्यायसंगत ठहराने में विफल रहा है। बता दें कि ओबामा शासनकाल के दौरान इस कार्यक्रम से अवैध रूप से अमरीका आए लगभग आठ लाख युवाओं (बचपन में आए) को उनके देश भेजने से सुरक्षा प्रदान कराता है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned