सबरीमला विवाद पर संयुक्त राष्ट्र ने कहा- समान हक महिलाओं का अधिकार, सभी पक्ष कानून का सम्मान करें

सबरीमला विवाद पर संयुक्त राष्ट्र ने कहा- समान हक महिलाओं का अधिकार, सभी पक्ष कानून का सम्मान करें

| Updated: 05 Jan 2019, 08:03:26 PM (IST) अमरीका

केरल में सबरीमला के अयप्पा मंदिर में महिला श्रद्धालुओं के प्रवेश को लेकर विवाद पर संयुक्त राष्ट्र की तरफ से भी बयान आया है।

संयुक्त राष्ट्रः भारत के केरल में सबरीमला के अयप्पा मंदिर में महिला श्रद्धालुओं के प्रवेश को लेकर विवाद पर संयुक्त राष्ट्र की तरफ से भी बयान आया है। सबरीमला विवाद पर एक पत्रकार द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के उपप्रवक्ता फरहान हक ने कहा, "सभी के लिए समान अधिकार पर संयुक्त राष्ट्र के रुख से आप अवगत हैं।" महिलाओं के समान अधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र का मौलिक रुख सभी धर्मो के लिए लागू होता है। एक अन्य पत्रकार द्वारा केरल में दो महिलाओं के अयप्पा मंदिर में प्रवेश पर मचे बवाल और संयुक्त राष्ट्र के पूर्व अंडर-सेक्रेटरी-जनरल शशि थरूर द्वारा महिलाओं की आलोचना के बारे में पूछे जाने पर हक ने कहा, "यह एक मुद्दा है, जिस पर भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने टिप्पणी की है। इसलिए, हमें इस मामले को भारत के कानून के शासन के हाथों में छोड़ देना चाहिए। बिल्कुल, हम चाहते हैं कि सभी पक्ष कानून का सम्मान करें।"

यह पूछे जाने पर कि मंदिर में महिलाओं को प्रवेश नहीं देना क्या मानवाधिकार का उल्लंघन है? हक ने सीधा जवाब नहीं देते हुए कहा, "हम सभी को देश के काननू का सम्मान करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।" सर्वोच्च न्यायालय ने सितंबर 2018 में 10 से लेकर 50 वर्ष की महिलाओं के भगवान अयप्पा के मंदिर में प्रवेश करने पर लगी रोक हटा दी थी। बता दें कि केरल में सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर इन दिनों हंगामा मचा हुआ है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned