सुषमा ने मंच पर भाजपा प्रत्याशी से कहा था मेरे पास बैठने से नहीं मिलेगा वोट, मतदाताओं के बीच जाएं

सुषमा ने मंच पर भाजपा प्रत्याशी से कहा था मेरे पास बैठने से नहीं मिलेगा वोट, मतदाताओं के बीच जाएं

Rajan Kumar | Publish: Aug, 08 2019 04:25:29 PM (IST) Anuppur, Anuppur, Madhya Pradesh, India

वक्त की पाबंद सुषमा स्वराज, निर्धारित समय से एक घंटा पहले पहुंची थी अनूपपुर

अनूपपुर। भारतीय राजनीतिक की प्रख्यात और मुखर वक्ता, सभी दलों में सम्मानीय, आम जनों की शुभचिंतिका, विदेशी मंच पर भारत की बेहतर छवि प्रस्तुत करने वाली विदेश मंत्री, राजनेताओं के लिए राजनीतिज्ञ और सामाजिक भाव में मां बहन और बेटी जैसे व्यक्तित्व की धनी भारत की पूर्व विदेश मंत्री स्व. सुषमा स्वराज अनूपपुर की धरती की भी कायल रही। ६ अगस्त की रात ६७ वर्षीय सुषमा स्वराज ने दुनिया को अलविदा कह दिया, लेकिन उनके स्नेह और ममता भरी शब्दो की आवाज आज भी अनूपपुर वासियों के कानों में गंूज रही है। उनके निधन से अनूपपुर वासियों की आंखे नम है और मुख नि:शब्द हैं। वर्ष १९९९ में शहडोल संसदीय क्षेत्र के लिए होने वाले लोकसभा चुनाव से ५ दिन पूर्व १३ सितम्बर को भाजपा प्रत्याशी दलपत सिंह परस्ते के पक्ष में चुनावी प्रचार में आमसभा को सम्बोधित करने सुषमा स्वराज अनूपपुर पहुंची थी। जहां सैकड़ो की तादाद में भाजपा कार्यकर्ता सहित नगरवासियों ने उनका सम्मान किया था। प्रशासनिक स्तर पर सुषमा स्वराज का आगमन ९.३० बजे निर्धारित था, जबकि पार्टी के तय कार्यक्रम १०.३० बजे निर्धारित थे। इस प्रकार समय की पाबंद सुषमा स्वराज पार्टी के कार्यक्रम से एक घंटा पूर्व ही अनूपपुर पहुंच गई। एक घंटा बाद कार्यक्रम होने की सूचना पर वे शहडोल के लिए नहीं चली। बल्कि इंदिरा तिराहा स्थित सर्किट हाउस में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ तय समय का इंतजार किया। सुषमा स्वराज की हेलीकॉप्टर सुबह ९.३० बजे शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय अनूपपुर परिसर में उतरी थी। इस दौरान भाजपा की ओर से महिला सदस्य के रूप में नेतृत्व करने वाली एकमात्र सदस्य रामा मिश्रा अपने चार वर्षीय पुत्र प्रद्धूम मिश्रा के साथ सर्किट हाउस पहुंची, जहां सुषमा स्वराज ने रामा को देखते हुए गले लगाया और पुत्र का नाम पूछते हुए माता पिता का भी नाम पूछे। माता पिता और पुत्र के नाम ईष्टदेवों के नाम से सम्बंधित होने पर सुषमा स्वराज ने हंसी के लिहजे में कहा तो पूर्व तय निर्णयों के आधार पर पुत्र का जन्म और नामांकन किया गया है। जिसके बाद कक्ष में जोरदार हंसी का दौर गुजरा। रामा मिश्रा के अनुसार १०.३० बजे शासकीय उत्कृष्ट स्कूल परिसर में आयोजित आमसभा कार्यक्रम के दौरान मंच पर बैठे भाजपा प्रत्याशी दलपत सिंह परस्ते से कहा आप हमारे पास बैठ कर समय बर्बाद कर रहे हैं। मेरे पास बैठने से वोट नहीं मिलेगा। मतदाताओं के बीच जाएं वहां जीत का मंत्र है। सुषमा की इस बात को सुनते ही दलपत सिंह परस्ते सीधे चुनावी प्रचार में निकल गए। दो बार भाजपा मंडल का नेतृत्व करने वाली महिला भाजपा सदस्य रामा मिश्रा का कहना है वे पार्टी के सदस्य के रूप में अनूपपुर से एक मात्र महिला कार्यकर्ता थी, जो अकेले ही दिल्ली पार्टी के कार्यक्रमों में शामिल होती थी। दिल्ली में भी महिला के नाते सुषमा स्वराज रामा मिश्रा को काफी सम्मान देती और छोटी बहन की भांति समझाईश देती थी। रात जैसे न्यूज पर निधन की खबर मिली, पूरी रात उनकी ही याद में गुजर गया। उनके साथ बिताए पल नहीं भूले जा सकते। आज वो हम सबको छोडक़र अलविदा कह गई है। लेकिन जाने से पूर्व भी देश के प्रधानमंत्री को ट्वीट के माध्यम से जो शब्द लिखे वो हर भारतवासी के दिलों में हमेशा याद रखे जाएंगे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned