ये क्या?..छात्रवृत्ति के लिए 18 हजार छात्रों का नहीं हुआ नामांकन, सवा लाख की सूची में मात्र 7 हजार अपडेट

ये क्या?..छात्रवृत्ति के लिए 18 हजार छात्रों का नहीं हुआ नामांकन, सवा लाख की सूची में मात्र 7 हजार अपडेट

shivmangal singh | Publish: Sep, 10 2018 08:56:51 PM (IST) Anuppur, Madhya Pradesh, India

ये क्या?..छात्रवृत्ति के लिए 18 हजार छात्रों का नहीं हुआ नामांकन, सवा लाख की सूची में मात्र 7 हजार अपडेट

आधा सैकड़ा स्कूलों ने छात्रों की नहीं भेजी जानकारी
अनूपपुर। जिले के समस्त शासकीय व अशासकीय स्कूलों की कक्षा १ से १२ वीं पढऩे वाले विद्यार्थियों को दी जाने वाली शासकीय छात्रवृत्ति योजना अब प्राचार्यो की लापरवाही की भेंट चढ़ती नजर आ रही है। पिछले तीन माह से शासन द्वारा चाही गई जानकारी में जून माह शिक्षा विभाग द्वारा दिए गए आदेशों के बाद भी अधिकांश स्कूली प्राचार्यों ने बच्चों की जानकारी शिक्षा विभाग को नहीं भेजी गई। जिसके कारण शासन की ऑनलाईन समग्र आईडी अपडेशन से जिले के १८ हजार ७५२ बच्चे लाभ योजना से वंचित होते नजर आ रहे हैं। जबकि वर्ष २०१८ के लिए नामांकित हुए १ लाख २७ हजार बच्चों में मात्र ७११६ बच्चों की सूची ही ऑनलाईन अपडेशन सम्भव हो सकी है।फीडिंग नहीं होने के कारण आशंका जताई जा रही है कि ऐसे स्कूली छात्र अब शासन की योजना से वंचित हो जाएंगे। छात्रवृत्ति के लिए समग्र आईडी अपडेशन फीडिंग के मामले में अनूपपुर जिला प्रदेश में सबसे निचले पायदान पर खड़ा है। ११६१ प्राथमिक, ३९३ माध्यमिक, सहित १३५ उच्च व उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों सहित १९४ निजी विद्यालयों में १ से १२ वीं तक दर्ज कुल १ लाख ३२ हजार छात्र-छात्राएं है। जिसमें अबतक १ लाख २७ हजार छात्रों का नाम नामांकित सूची में दर्ज किया जा चुका है। शेष १८ हजार ७५२ छात्र वंचित हैं। जबकि जिलांतर्गत ४६ स्कूलों में डीडीओ (आहरण समवितरण अधिकारी) नियुक्त किए गए हैं। जिसमें लगभग सभी स्कूलों द्वारा कोरम पूरा नहीं किया गया है।
शिक्षा विभाग की जानकारी के अनुसार अब शासन ने बच्चों की आधार कार्ड पर दी गई जानकारी को अपडेशन करते हुए समग्र आईडी से लिंकेज किया जाना प्रस्तावित किया है। जिसमें समग्र आईडी ऑनलाईन से जुडऩे पर किसी भी स्कूली बच्चें की पात्रता पूरी जानकारी के साथ उपलब्ध हो जाएगी। इसके माध्यम से शासन उन्हें छात्रवृत्ति योजना के तहत २९ स्तरीय पर लाभ जैसे साथ गणवेश, सायकल योजना, पाठ्य पुस्तक सहित अन्य शासकीय योजनाओं की राशि को सीधे बच्चों के खाते में उपलब्ध करा देगी। ताकि किसी बच्चे के साथ पक्षपात या फिर स्कूली स्तर पर बरती जाने वाली लापरवाही में लाभ छूटने की गुजाईंश नहीं होगी। लेकिन इन मामले में प्राचार्यो की लापरवाही ने बच्चों की छात्रवृत्ति पर पानी फेर दिया है। जानकारी के अनुसार अनूपपुर जिले की अपडेशन स्थिति पर जिला प्रशासन सहित आयुक्त शिक्षण संचालनालय ने अप्रसन्नत व्यक्त करते हुए १५ सितम्बर तक अपडेशन के अल्टीमेटम दिए हैं।
बॉक्स: पिछले वर्ष से कम नहीं होगा नामांकन
शासकीय छात्रवृत्ति योजना में पिछले वर्ष की तुलना में नामांकन की सूची कम नहीं होगी। पिछले वर्ष १ लाख ४६ हजार ०११ बच्चों को छात्रवृत्ति योजना के लिए चिह्नित किया गया था। जिसमें शासन द्वारा मात्र ९३ हजार ९३ छात्रों को ही छात्रवृत्ति योजना से लाभांवित करने के लिए चयनित की। लेकिन इसमें भी अभिभावकों व शिक्षको की लापरवाही में ७ हजार से अधिक बच्चे छात्रवृत्ति योजन से वंचित रह गए। शिक्षा विभाग का कहना था कि इसमें अधिकांश बच्चे, अपने पिता का जनधन योजना वाली पासबुक, लोन खाता, होल्ट एकाउंट, या खाता संख्या त्रुटिपूर्ण उपलब्ध कराते हैं, जिसमें इस प्रकार की समस्याएं बनती है।
वर्सन:
हमने बार बार सभी डीडीओ सहित शासकीय व अशासकीय स्कूलों के प्राचार्यों को पत्राचार कर छात्रवृत्ति समग्र अपडेशन की जानकारी उपलब्ध कराने की बात कही थी। अबतक हुए अपडेशन और नामांकन पर प्रशासन ने नाराजगी जताई है। १५ सितम्बर तक नामांकन व अपडेशन नहीं होने पर सम्बधित प्राचार्यो के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी कलेक्टर द्वारा दी गई है।
नरेन्द्र पटेल, छात्रवृत्ति नोडल अधिकारी जिला शिक्षा विभाग अनूपपुर।

Ad Block is Banned