सात माह में घटे 20812 मतदाता, तो 882 से घटकर 871 पर पहुंचा वोटर का लिंगानुपात

सात माह में घटे 20812 मतदाता, तो 882 से घटकर 871 पर पहुंचा वोटर का लिंगानुपात

Satish More | Publish: Aug, 13 2018 08:57:31 AM (IST) Ashoknagar, Madhya Pradesh, India

सूची से फर्जी मतदाताओं के नाम हटने से घटी मतदाताओं की संख्या, पुरुषों के मुकाबले महिलाओं के ज्यादा फर्जी नाम मिले तो लिंगानुपात पर दिखा अंतर

अशोकनगर. सात महीने में जिले में मतदाताओं के नाम बढऩे की वजाय घट गए। इसका कारण फर्जी मतदाताओं के नाम हटना बताया जा रहा है। लेकिन इससे मतदाताओं का लिंगानुपात भी घट गया। मतदाता सूची में जहां पहले ही लिंगानुपात कम था, लेकिन सात महीने में 1000 पुरुषों के मुकाबले करीब 11 महिलाएं और घट गई हैं।
मुंगावली उपचुनाव से पहले निर्वाचन आयोग ने मतदाता सूची का प्रकाशन किया तो पांच जनवरी को जिले की तीनों विधानसभाओं में पांच लाख 58 हजार 794 मतदाता थे, लेकिन 31 जुलाई को हुए सूची के प्रारंभिक प्रकाशन में जिले में मतदाताओं की संख्या पांच लाख 37 हजार 98 2 रह गई है।

 

सात महीने में जिले में 20 हजार 8 12 मतदाता कम हो गए हैं।
जिसमें 9411 पुरुष मतदाता और 11 हजार 401 महिला मतदाताओं के नाम जिले में घटे हैं। वहीं पांच जनवरी को मतदाता सूची में महिला-पुरुष लिंगानुपात 88 2.18 था, जो अब घटकर 8 71.40 पर पहुंच गया है। जबकि 2011 की जनगणना अनुसार जिले की जनसंख्या का लिंगानुपात 900 था, लेकिन सात साल में मतदाता सूची में लिंगानुपात में अंतर स्थिति को भयावह बनाता नजर आ रहा है। हालांकि निर्वाचन अधिकारी का कहना है कि 31 अगस्त तक दावे-आपत्तियां लिए जा रहे हैं और जिनके नाम गलत कटे हैं या जुड़ नहीं पाए, उनके नाम जोड़े और हटाए जाएंगे।

27 हजार फर्जी मतदाता मिले, 6 हजार नए जोड़े-
निर्वाचन सुपरवाईजर के मुताबिक जिलेभर में विशेष अभियानों के तहत कराए गए मतदाता सूची के सत्यापन के दौरान जिलेभर में करीब 27 हजार फर्जी मतदाता मिले थे, जिनमें कई के दो जगह नाम, कुछ मृत तो कुछ अन्य विधानसभाओं के मतदाता पाए गए थे। उन नामों को सूची से हटा दिया गया है।वहीं डोर-टू-डोर सर्वे के दौरान करीब छह हजार नए मतदाताओं के नाम जोड़े गए हैं। इसी वजह से सात महीने में सूची से जिले में 208 12 मतदाता कम हो गए हैं।

 

31 जुलाई को मतदाता सूची का प्रारंभिक प्रकाशन हुआ है, जिसमें मतदाताओं के नाम में आए अंतर की जानकारी तो फाइल देखकर ही बताई जा सकती है। लेकिन हम 31 अगस्त तक दावे-आपत्तियां ले रहे हैं। यदि किसी को नाम गलत कट गया है या जुड़ नहीं पाया, तो वह 31 अगस्त तक दावे-आपत्ति लगा सकता है। इससे सूची में नाम जोड़े और हटाए जा सकेंगे।
भूपेंद्र गोयल, उप जिला निर्वाचन अधिकारी अशोकनगर

सबसे ज्यादा मुंगावली विधानसभा में घटा लिंगानुपात
फर्जी मतदाताओं के नाम हटने और नए नाम जुडऩे के बाद जिले की तीनों विधानसभाओं में ही मतदाता लिंगानुपात घटा है, जिसमें सबसे ज्यादा अंतर मुंगावली विधानसभा में आया है। जहां सात महीने पहले 1000 पुरुषों के मुकाबले 8 72.91 महिला मतदाता थीं, लेकिन अब लिंगानुपात 8 58 .33 पर पहुंच गया है। इससे मुंगावली विस में 1000 पुरुषों के मुकाबले 14.58 महिला मतदाता और घट गई हैं। मतदाताओं के लिंगानुपात में इतना बड़ा अंतर महिलाओं की घटती संख्या को उजागर कर रहा है।

31 जुलाई को मतदाता सूची का प्रारंभिक प्रकाशन हुआ है, जिसमें मतदाताओं के नाम में आए अंतर की जानकारी तो फाइल देखकर ही बताई जा सकती है। लेकिन हम 31 अगस्त तक दावे-आपत्तियां ले रहे हैं। यदि किसी को नाम गलत कट गया है या जुड़ नहीं पाया, तो वह 31 अगस्त तक दावे-आपत्ति लगा सकता है। इससे सूची में नाम जोड़े और हटाए जा सकेंगे।
भूपेंद्र गोयल, उप जिला निर्वाचन अधिकारी अशोकनगर

Ad Block is Banned