MP में किसानों ने सरकार पर लगाया धोखे का आरोप, दी प्रदेशभर में आंदोलन की चेतावनी

MP में किसानों ने सरकार पर लगाया धोखे का आरोप, दी प्रदेशभर में आंदोलन की चेतावनी

Deepesh Tiwari | Updated: 23 Aug 2019, 05:23:03 PM (IST) Ashoknagar, Ashoknagar, Madhya Pradesh, India

- कर्जमाफी के नए मापदण्ड किसानों को नहीं आए रास
- प्रदेश सरकार ने दायरा बदला तो किसानों में बढ़ी नाराजगी

अशोकनगर। प्रदेश सरकार ने कर्जमाफी का दायरा बदल दिया है, जिन किसानों पर दो लाख रुपए से अधिक का कर्ज है उन्हें कर्जमाफी का लाभ नहीं मिलेगा। प्रदेश सरकार के कर्जमाफी के नए मापदण्ड किसानों को रास नहीं आ रहे हैं। किसान संघ ने इसे किसानों के साथ धोखा बताते हुए आंदोलन की चेतावनी दी है और कहा है कि प्रदेश भर में आंदोलन करेंगे।

कांग्रेस ने चुनाव से पहले प्रत्येक किसान का दो लाख रुपए तक का बैंक कर्ज माफ करने की घोषणा की थी। साथ ही प्रदेश में सरकार बनने के बाद कर्ज माफ करने किसानों की सूची जारी कर हरे, सफेद और गुलाबी रंग के आवेदन भरवाए गए थे।

इससे जिले के 56 हजार किसानों ने कर्ज माफ कराने के लिए आवेदन दिए थे और बार-बार प्रदेश सरकार सभी किसानों को दो लाख रुपए तक का कर्जा माफ करने का आश्वासन दे रही थी, लेकिन अब प्रदेश सरकार ने सिर्फ उन्हीं किसानों का कर्ज माफ करने की बात कही है जिन किसानों पर दो लाख रुपए तक कर्ज है। इससे अब किसान कर्जमाफी के नाम पर धोखा देने का आरोप लगा रहे हैं।

कर्जमाफी से वंचित रहेंगे 60 फीसदी किसान
दो लाख रुपए तक का कर्ज माफ कराने के लिए जिले के 56 हजार किसानों ने आवेदन दिए थे। भारतीय किसान संघ के प्रदेश मंत्री का कहना है कि जिले के 60 फीसदी किसानों पर दो लाख रुपए से अधिक का कर्ज है और उन्हें अपना दो लाख रुपए तक का कर्ज माफ होने की उम्मीद थी, लेकिन अब जिले के यह 60 फीसदी किसान कर्जमाफी से वंचित रह जाएंगे। इससे किसानों में नाराजगी है और किसानों का कहना है कि जब कर्ज माफ करना ही नहीं था तो उनसे हरे, गुलाबी फॉर्म भरवाए ही क्यों।

12 हजार किसानों का 51.92 करोड़ माफ
ऋणमाफी के लिए आवेदन करने वाले जिले के 56 हजार किसानों में से प्रदेश सरकार ने पहले चरण में 12,238 किसानों के 52.36 करोड़ रुपए का ऋण माफ करने के लिए स्वीकृत किए थे। जिनमें से 12,071 किसानों का 51.91 करोड़ रुपए माफ किया गया।

जिनमें 4,420 पीए खाते और 7,651 एनपीए खाते शामिल हैं। पहले चरण में सहकारी बैंक के 8,287 किसानों का 28.04 करोड़ रुपए, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक के 2,210 किसानों का 14.66 करोड़ रुपए और राष्ट्रीयकृत बैंक के 1,574 किसानों का 9.21 करोड़ रुपए का कर्ज माफ हुआ। शेष 44 हजार किसानों को द्वित्तीय चरण में कर्ज माफ होने की उम्मीद थी।


प्रथम चरण में जिले के इन किसानों का ऋणमाफ-

बैंक किसान ऋणमाफ रु.में
सहकारी बैंक 8,287 28,04,29,501
क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक 2,210 14,66,20,211
राष्ट्रीयकृत बैंक 1,574 9,21,66,592
पीए खाते 4,420 12,57,73,534
एनपीए खाते 7,651 39,34,42,770
कुल ऋणमाफ 12,071 51,92,16,304

 

जिले में कर्जमाफी पर एक नजर-
56,000 : फॉर्म भरने वाले किसान

12,238 : प्रथम चरण में पात्र किसान

12,071 : प्रथम चरण में ऋणमाफ

51,92,16,304: प्रथम चरण में ऋणमाफी राशि

प्रदेश सरकार ने पहले कहा था कि सभी किसानों का दो लाख रुपए तक का कर्ज माफ करेंगे। प्रदेश सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है, इससे जिले के 60 फीसदी किसान अपात्र माने जाएंगे। किसानों के साथ हुए इस धोखे के खिलाफ प्रदेशभर में आंदोलन करेंगे।
- जगरामसिंह यादव, प्रदेश मंत्री भारतीय किसान संघ

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned