मलेशिया: धार्मिक स्कूल में दर्दनाक हादसा, आग लगने से 25 बच्चों की मौत

ashutosh tiwari

Publish: Sep, 14 2017 11:28:53 (IST) | Updated: Sep, 14 2017 12:41:18 (IST)

Asia
मलेशिया: धार्मिक स्कूल में दर्दनाक हादसा, आग लगने से 25 बच्चों की मौत

मलेशिया में पिछले 20 साल का सबसे बड़ा हादसा, 2 वॉर्डन समेत 25 बच्चों की हुई दर्दनाक मौत 

कुआलालंपुर/नई दिल्ली: मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर में अब तक सबसे दर्दनाक हादसा हुआ है। राजधानी के एक धार्मिक स्कूल में आग लगने से करीब 25 बच्चों की दर्दनाक मौत हो गई है। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, मरने वालों में 23 बच्चे और 2 वॉर्डन शामिल हैं। गुरुवार तड़के हुए इस हादसे को मलेशिया के इतिहास का सबसे बड़ा हादसा बताया जा रहा है। मरने वालों में कई शिक्षक भी बताए जा रहे हैं। स्कूल का करीब 90 फीसदी हिस्सा जल चुका है। मौके पर सभी इमरजेंसी सेवाओं को घटनास्थल के लिए भेज दिया गया था।

हादसे के वक्त सो रहे थे बच्चे
बताया जा रहा है कि स्कूल में आग उस वक्त लगी जब बच्चे सो रहे थे। अधिकारियों की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक तहफ़ीज़ दारुल क़ुरान इत्तिफ़ाक़िया में ये बच्चों के सोने के टाइम लगी, इसीलिए बच्चों को वहां से निकलने का मौका नहीं मिल पाया और 2 वॉर्डन समेत 25 बच्चों की मौत हो गई।

 

fire malaysia

आग के कारणों का नहीं चल पाया है पता
हालांकि अभी आग लगने के कारणों का पता नहीं लगाया जा सका है। वहीं शुरुआती जांच में अभी मरने वालों में बच्चों की उम्र का भी कोई जिक्र नहीं किया गया है। इस हादसे में कई बच्चे घायल भी हुए थे, जिन्हें नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इनमें से कुछ ने धुएं के कारण दम घुटने की शिकायत की है।

पिछले 20 साल का सबसे भयंकर हादसा
अधिकारियों का कहना है कि ये पिछले 20 सालों में देश में हुई आग की घटनाओं में सबसे भयंकर हो सकती है। हाल के दिनों में लगातार आग लगने की घटनाओं पर मलेशियाई प्रशासन ने निजी स्कूलों के सुरक्षा उपायों पर अपनी चिंता जताई है।

rescue

प्रधानमंत्री ने प्रकट की संवेदना
स्थानीय मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक 2015 से अब तक 200 बार आग लगने की ऐसी घटनाएं हुई हैं। प्रधानमंत्री नजीब रज्ज़ाक ने ट्वीट कर हताहतों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned