भारत-चीन के बीच सुलग रहा है ट्रेड-वार, जल्द चढ़ सकता है राजनीति का रंंग

  • Trade deficit को लेकर दोनों देशों में बढ़ते मतभेदों को लेकर भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री ने चिंता व्यक्त की है
  • अमरीका-चीन जैसे ट्रेडवार में बदल सकता है भारत-चीन का व्यापार असंतुलन

By: Mohit Saxena

Updated: 10 Jul 2019, 11:31 AM IST

बीजिंग। भारत और चीन के संबंध इन दिनों बेहद नाजुक दौर से गुजर रहे हैं। दोनों देशों के बीच दिनों-दिन बढ़ता व्यापार असंतुलन कब ट्रेड वार का रूप ले ले, यह कहा नहीं जा सकता। चीन में भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री ने व्यापार घाटे को लेकर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि भारत- चीन के बीच चल रही यह समस्या जल्द राजनीतिक रूप ले सकती है। उन्होंने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि चीन और अमरीका के बीच व्यापार युद्ध काफी दिनों से चल रहा है। ऐसे में भारत चीन की तरफ उम्मीद भरी नजरों से देख रहा है।

टारगेट के करीब पहुंचा ईरान, निर्धारित सीमा से 4.5% अधिक यूरेनियम का संवर्धन

 

china

कई प्रोजेक्ट पर मुहर लगनी बाकी

भारत चाहता है उसके कृषि उत्पादों का निर्यात चीन में हो। चावल, मछली, खाना बनाने वाले तेल, तंबाकू की पत्तियां आदि के निर्यात के लिए कई तरह के समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं। मिस्री का कहना है कि इसके अलावा भी कई ऐसे प्रोजेक्ट पर मुहर लगना बाकी है। दोनों देशों के बीच दो तरफ व्यापार हकीकत में नहीं बदल सका है। उन्होंने कहा कि यह चीन की सरकार के लिए चुनौती है कि वह व्यापार घाटे को कम करें। भारत से लंबे समय तक व्यापार करने के लिए चीन को बेहतर प्रयास करने होंगे ताकि ये मुद्दा राजनीति रंग न ले ले।

पाकिस्तान सरकार का बड़ा फैसला, अमरीका यात्रा के दौरान महंगे होटलों में नहीं रुकेंगे इमरान खान

china

हांगकांग के साथ घाटा बढ़ा

भारत के वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों से पता चलता है कि बीते साल चीन में व्यापार घाटा 10 बिलियन अमरीकी डॉलर घटकर 53.6 बिलियन अमरीकी डॉलर रह गया था, लेकिन हांगकांग के साथ घाटा बढ़कर 5 बिलियन अमरीकी डॉलर बढ़ गया था। दो साल पहले चीन और भारत डोकलाम में दो महीने के बॉर्डर स्टैंड में तनाव में थे, लेकिन तब से संबंधों को फिर से बनाने के लिए काम कर रहे हैं।

क्या चाहता है भारत

भारत चाहता है कि है कि जिस तरह से चीन ने भारत में आकर अपना व्यापार फैलाया है। वैसा ही भारत भी चीन से अपेक्षा रखता है। दोनों के बीच में आयात निर्यात का अंतर काफी ज्यादा है। एक तरफ चीन भारत के पारंपरिक त्योहारों में भी सेंध लगा चुका है। वहीं भारत के कृषि उत्पाद भी चीन में निर्यात नहीं किए जा रहे हैं।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned