म्यांमार 3,600 से अधिक रोहिंग्याओं को वापस लाने को तैयार, लेकिन शरणार्थी ने लौटने से किया इनकार

म्यांमार 3,600 से अधिक रोहिंग्याओं को वापस लाने को तैयार, लेकिन शरणार्थी ने लौटने से किया इनकार

Shweta Singh | Updated: 16 Aug 2019, 05:43:58 PM (IST) एशिया

  • म्यांमार ने रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस लेने का किया फैसला
  • दो साल पहले सैन्य नेतृत्व की कार्रवाई से हुई हिंसा के बाद लोगों ने छोड़ा था देश

यांगून। म्यांमार ने रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस लेने का फैसला किया है। म्यांमार ने शुक्रवार को इस बारे में ऐलान करते हुए कहा कि वह राखाइन राज्य में हुई हिंसा के दौरान देश छोड़कर बांग्लादेश में शरण लेने वाले 3600 से अधिक रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस लाने के लिए तैयार है। आपको बता दें कि दो साल पहले सैन्य नेतृत्व की कार्रवाई से हुई हिंसा के बाद म्यांमार के मुस्लिम अल्पसंख्यकों ने अपना देश छोड़ दिया था।

म्यांमार के विदेश मंत्रालय ने जारी किया बयान

म्यांमार के विदेश मंत्रालय में अंतरराष्ट्रीय संगठनों और आर्थिक विभाग के महानिदेशक यू चैन एई ने एफे न्यूज से कहा कि उनका देश 22 अगस्त से प्रत्यावर्तन की प्रक्रिया के लिए तैयार है, बस उन्हें बांग्लादेश की सरकार से तारीख की पुष्टि किए जाने का इंतजार है। रिपोर्ट में आग कहा गया है कि यह कदम एक-डेढ़ साल बाद ऐसे समय में आया है, जब एक बड़े प्रत्यावर्तन के प्रयास किए जा रहे हैं।

शरणार्थियों को है डर

हालांकि, दूसरी ओर शरणार्थियों ने अपने देश में लौटने से इनकार किया जा रहा है। उन्हें डर है कि वहां उनके साथ और अधिक हिंसा हो सकती है। रोहिंग्याओं का बड़े पैमाने पर पलायन 25 अगस्त 2017 से शुरू हुआ था। इस दौरान म्यांमार की सेना ने बांग्लादेश की सीमाओं से सटे राज्य राखाइन में विद्रोहियों को दबाने के उद्देश्य से कड़ी कार्रवाई शुरू की थी।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned