पाकिस्तान: सद्भावना के तहत 20 भारतीय मछुआरें रिहा, वाघा बॉर्डर के रास्ते आज पहुंचेंगे भारत

  • पाकिस्तान में अवैध रूप से दाखिल होने और समुद्री सीमा पार कर मछली पकड़ने का था आरोप
  • रविवार को कराची की मलेर जिला जेल लांढी से हुए रिहा

By: Shweta Singh

Updated: 06 Jan 2020, 10:00 AM IST

कराची। पाकिस्तान में अवैध रूप से दाखिल होने और इसकी समुद्री सीमा में मछली पकड़ने के आरोप में गिरफ्तार 20 भारतीय मछुआरों ( Indian fisherman in Pakistan ) को रिहा कर दिया गया है। पाकिस्तान की मीडिया रिपोर्ट से इस बारे में जानकारी मिली है। रिपोर्ट के अनुसार, इन मछुआरों को रविवार को कराची की मलेर जिला जेल लांढी से रिहा किया गया।

इनमें से 20 को सद्भावना के तहत रिहा करने का फैसला

रिपोर्ट में कहा गया है कि इन मछुआरों को सोमवार को लाहौर जिले में वाघा सीमा ( Wagah Border ) पर भारतीय अधिकारियों को सौंपा जाएगा। मलेर जिला जेल लांढी के अधीक्षक औरंगजेब खान ने बताया कि इन्हें मिलाकर इस वक्त 237 भारतीय मछुआरे इस जेल में कैद थे। पाकिस्तान की सरकार ने इनमें से 20 को सद्भावना के तहत रिहा करने का फैसला किया है। यह बीते एक साल से अधिक समय से जेल में थे। इनकी रिहाई के बाद अब पाकिस्तान की जेल में 217 भारतीय मछुआरे कैद में हैं।

पाकिस्तान की सीनाजोरी! कहा- ननकाना साहिब को नहीं पहुंचा नुकसान, खबरें झूठी

वाघा सीमा के रास्ते भारतीय अधिकारियों को सौंपे जाएंगे मछुआरे

औरंगजेब खान ने बताया कि इन बीस भारतीय मछुआरों की रिहाई रविवार दोपहर की गई। इन्हें जेल पुलिस की निगरानी में परोपकारी संगठन ईधी फाउंडेशन द्वारा कराची कैंट रेलवे स्टेशन पहुंचाया गया। यहां से इन्हें लाहौर रवाना किया गया। ईधी फाउंडेशन के प्रमुख फैसल ईधी ने इन्हें स्टेशन पर विदा किया। अब 6 जनवरी को लाहौर में ईधी फाउंडेशन की निगरानी में यह भारतीय मछुआरे वाघा सीमा तक जाएंगे जहां दोपहर बाद इन्हें भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया जाएगा।

Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned