डायनैमिक लाइट से जगमगा रहा अयोध्या एयरपोर्ट और राममंदिर, देखें अद्भुत तस्वीरें

मंदिर की डायनामिक लाइटिंग मंदिर वास्तुकला की नागर शैली से प्रेरित अद्वितीय डिजाइन को लगातार विविध रंगों की रोशनी से रोशन कर रही है। इसके साथ ही यह लाइटिंग विभिन्न प्रमुख अवसरों के अनुरूप एअरपोर्ट को रोशन करेगी।

यह लाइटिंग विभिन्न प्रमुख अवसरों के अनुरूप एअरपोर्ट को रोशन करेगी।
Ayodhya News: अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, जो अब महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा अयोध्या धाम है। यह अब रंग बदलने वाली प्रकाश व्यवस्था (डायनामिक लाइटिंग) के साथ वास्तुशिल्प की एक अनुपम प्रति बनने के लिए तैयार है। मंदिर की डायनामिक लाइटिंग मंदिर वास्तुकला की नागर शैली से प्रेरित अद्वितीय डिजाइन को लगातार विविध रंगों की रोशनी से रोशन करेगी इसके साथ ही यह लाइटिंग विभिन्न प्रमुख अवसरों के अनुरूप एअरपोर्ट को रोशन करेगी।
250 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित यह हवाई अड्डा, अयोध्या की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के प्रमाण के रूप में खड़ा है। इसका डिज़ाइन हिंदू धर्मग्रंथ रामायण से प्रेरित नक्काशीदार खंभे और कलाकृतियाँ हैं, मुख्य प्रवेश द्वार पर एक भव्य सीढ़ीदार 'शिकार' और रामायण की प्रमुख घटनाओं का प्रतीक भव्य स्तंभ हैं।
हवाई अड्डे के भीतर कलाकृतियों का एक प्रभावशाली कला संग्रह के माध्यम से संपूर्ण रामायण का वर्णन है, जिसमें पुष्पक वाहन पर सवार श्री राम, सीताजी और भाई लक्ष्मण के अयोध्या में ऐतिहासिक अवतरण को दर्शाया गया है। यह प्रतीकवाद इस बात को रेखांकित करता है कि उस युग की पहली उड़ान इतिहास के एक महत्वपूर्ण क्षण को संजोते हुए अयोध्या में उतरी थी।
यह भी पढ़ें

अयोध्या में चमत्कार: विलुप्त प्रजाति के गिद्ध दिखने लगे तो लोगों ने जटायु के वंशज मानकर पूजा शुरू किया

हवाई अड्डा आधुनिक सुविधाओं के साथ अयोध्या की समृद्ध संस्कृति का सहज मिश्रण है। इंस्टापावर द्वारा डायनामिक प्रकाश व्यवस्था हवाई अड्डे की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए तैयार है, जो आगंतुकों और यात्रियों के लिए एक अद्भुत छटा पेश करता है। इंस्टापॉवर लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक अभिजीत वैश्य बताते हैं कि इंस्टापावर की डायनामिक लाइटिंग अयोध्या हवाईअड्डा परियोजना में 40 किलोवाट की कुल ऊर्जा खपत का अनुमान है। इंस्टापॉवर दिल्ली में सिग्नेचर ब्रिज, गुजरात भवन, एमपी भवन, रूमी दरवाजा, सूर्य मंदिर (मोढेरा), गांधी नगर रेलवे स्टेशन, सूरत अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे और कई अन्य परियोजनाओं के साथ शामिल है।

Markandey Pandey

मार्कंडेय पांडेय एक दशक से अधिक समय से सक्रिय पत्रकारिता में हैं। दिल्ली एनसीआर के विभिन्न विषयों को ग्राउंड रिपोर्ट करते रहें।

संबंधित विषय:

Copyright © 2024 Patrika Group. All Rights Reserved.