Ayodhya Bhoomipujan: 1500 आगंतुकों के लिए बनेगा भोजन, जन्मभूमि जाने वाले हर मेहमान का होगा कोरोना टेस्ट

भगवान राम की नगरी भूमिपूजन के लिए सज गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंच चुके हैं और भूमिपूजन के लिए अनुष्ठान भी जारी है। खास बात यह है कि भगवान श्रीराम ने अभिजीत मुहूर्त में जन्म लिया था और उसी मुहूर्त में मंदिर के लिए भूमिपूजन होना है। भूमिपूजन को लेकर खास तैयारी की गई है। इस बीच भूमिपूजन कार्यक्रम देखने विश्व हिंदू परिषद के कार्यालय कारसेवकपुरम में ठहरे आगंतुकों के लिए भोजन की व्यवस्था की गई है

By: Karishma Lalwani

Published: 05 Aug 2020, 01:11 PM IST

अयोध्या. भगवान राम की नगरी भूमिपूजन के लिए सज गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंच चुके हैं और भूमिपूजन के लिए अनुष्ठान भी जारी है। खास बात यह है कि भगवान श्रीराम ने अभिजीत मुहूर्त में जन्म लिया था और उसी मुहूर्त में मंदिर के लिए भूमिपूजन होना है। भूमिपूजन को लेकर खास तैयारी की गई है। इस बीच भूमिपूजन कार्यक्रम देखने कारसेवकपुरम में ठहरे आगंतुकों के लिए भोजन की व्यवस्था की गई है। यहां तीन अगस्त को 300 लोगों का खाना बना था, चार अगस्त को 800 के लिए बना और पांच अगस्त को 1500 लोगों के भोजन का आयोजन है। उधर, भूमिपूजन में शामिल होने वाले हर मेहमान का कोरोना टेस्ट किए जाने के बाद ही एंट्री मिलेगी।

विहिप की पत्थर तराशी कार्यशाला

जन्मभूमि के बीच सरकारी अमला भाग- दौड़ में लगा हुआ है। कारसेवकपुरम के गेट पर चार-पांच पुलिसवाले बैठे हैं। गेट से गाड़ियां अंदर जा रही हैं। भीतर गले मे विहिप की ओर से जारी कार्ड लटकाए स्वयंसेवक किसी इवेंट मैनेजमेंट टीम की तरह मुस्तैद हैं। मेहमानों को कोई दिक्कत न हो उसको लेकर एक हेल्प डेस्क बनाई गई है।

उधर, कारसेवकपुरम से लगभग 200 मीटर दूर और जहांं पत्थर तराशे जा रहे हैं, उस कार्यशाला के पीछे मानस भवन है। मेहमानों के ठहरने का इंतजाम यहां किया गया है। मानस भवन में अंदर जाते ही बड़ा सा हॉल है। यहां प्रवेश करने वाले अनजान व्यक्तियों को गेट पर ही रोक दिया जा रहा है। भगवा कुर्ता और पीले कुर्ते में स्वयंसेवक अनजान लोगों को रोक रहे हैं। कहा जा रहा है कि जब तक मेहमान पूजा में शामिल नहीं हो जाते उन्हें किसी से नहीं मिलना है। मानस भवन के भीतर कार्यशाला है। इसे भी सजाया गया है। गेट को फूलों और झालरों से सजाया गया है। अंदर जन्मभूमि का लाइव प्रसारण देखने के लिए एलईडी स्क्रीन लगाई गई है।

15 साल में पहली बार हनुमान गढ़ पर लगी बैरिकेडिंग हटा

अयोध्या में हो रहे भूमिपूजन में खास बात ये भी है कि 15 साल में पहली बार हनुमानगढ़ी पर लगी बैरिकेडिंग हटाई गई है। बगल में कपड़े की दुकान में बैठे रौशन कहते है कि जब अयोध्या में ब्लास्ट हुआ था तब सुरक्षा के लिए यह बैरिकेडिंग लगाई थी। अब यह बैरिकेडिंग कार्यक्रम को देखते हुए हटाई गई है और कार्यक्रम पूरा होने के बाद वापस लगाई जाएगी।

मेहमानों को बुलाने पर लगी रोक

अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कड़े इंतजाम किए गए हैं। बाहरी व्यक्तियों के जिले में प्रवेश पर रोक है। स्थानीय लोगों के घरों में मेहमानों के आने पर भी रोक है। लगभग डेढ़ किमी के रास्ते पर 4 से 5 मोहल्लेवालों को घरों में कल शाम तक कैद रहना पड़ेगा। टेढ़ी बाजार चौराहे से ही बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब के घर की ओर जाने वाला रास्ता भी है। यहां हमेशा की तरह पुलिस मुस्तैद है और बैरिकेडिंग लगी हुई है, लेकिन सड़क पर सन्नाटा पसरा हुआ है।

ये भी पढ़ें: Ram Mandir Update: भूमिपूजन से पहले अरबपति बने रामलला, करोड़ों में हुआ दान

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned