इंतजार खत्म, इस तारीख को अयोध्या में पड़ेगी भव्य राम मंदिर की नींव, हुआ फाइनल

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने राम मंदिर निर्माण की तैयारी काफी तेज कर दी हैं..

अयोध्या . मंदिर-मस्जिद विवाद में सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद सभी के मन में एक ही सवाल कौध रहा है कि आखिर राम मंदिर निर्माण कब से शुरू होगा। इस बीच सूत्रों के हवाले से खबर सामने आ रही है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण अप्रैल 2020 में शुरू होगा जो साल 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने इसकी तैयारी काफी तेज कर दी हैं। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर के फैसले में विवादित भूमि को हिंदुओं को देकर इस पर मंदिर निर्माण का रास्ता साफ कर दिया। अपने फैसले में कोर्ट ने 3 महीने के अंदर योजना बनाकर और मंदिर निर्माण के लिए एक ट्रस्ट के गठन का निर्देश केंद्र सरकार को दिया है।


ट्रस्ट को लेकर चर्चा

सूत्रों के मुताबिक इस बात पर भी चर्चा हो रही है कि नया ट्रस्ट बने या पुराने रामजन्मभूमि न्यास में ही नए सदस्य शामिल किये जाएं। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और बजरंग दल भी राम मंदिर ट्रस्ट का हिस्सा हो सकते हैं। हालांकि सदस्यों को लेकर आखिरी फैसला प्रधानमंत्री कार्यालय से ही होगा। वहीं दूसरी तरफ मंदिर निर्माण के लिए कई संगठनों, ट्रस्टों और धार्मिक समूहों द्वारा जमा फंड को लेकर सवाल यह खड़ा हो रहा है कि क्या फंड जमाकर्ता नए ट्रस्ट को पैसा सौंपने के लिए तैयार होंगे। वहीं इस बीच ट्रस्ट में जगह पाने को लेकर संतों और कई हिंदू संगठनों के बीच होड़ शुरू हो गई है।


ऐसे बनेगा राम मंदिर

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह तीन महीने के भीतर एक ट्रस्ट का गठन करे। आगे यही ट्रस्ट मंदिर निर्माण से जुड़ी हर गतिविधियों, प्रक्रियाओं का निर्धारण करेगा। कोर्ट के निर्देश के मुताबिक अयोध्या जमीन अधिग्रहण एक्ट 1993 के तहत ट्रस्ट का गठन होगा। फैसले के मुताबिक मंदिर के लिए ट्रस्ट आंतरिक और बाहरी अहाते की जमीन को कब्जे में लेगा। इसी कानून के तहत केंद्र सरकार ने विवादित स्थल के आसपास की 67.7 एकड़ जमीन अधिगृहीत की थी। कुछ शर्तो के साथ इसी कानून से यह जमीन ट्रस्ट को सौंपी जा सकेगी। राम मंदिर ट्रस्ट का रूप-स्वरूप देश के अन्य मंदिरों के ट्रस्ट जैसा ही होगा। यह सोमनाथ मंदिर, अमरनाथ श्राइन बोर्ड या माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की तरह भी हो सकता है। राम मंदिर निर्माण के लिये बनने वाले इस ट्रस्ट के सात सदस्यों में प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बतौर सदस्य शामिल हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: इन तीन प्वाइंट्स पर अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला फंसाने की तैयारी, AIMPLB का बड़ा ऐलान

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned