सुप्रीम कोर्ट ने माना मंदिर तो मस्जिद विध्वंस का आरोप गलत - वेदांती

रामजन्मभूमि परिसर में विवादित ढांचा विध्वंस पर सीबीआई की अदालत ने 4 जून को होगी अगली सुनवाई

By: Satya Prakash

Updated: 28 May 2020, 08:02 PM IST

अयोध्या : रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के फैसले के बाद अब सीबीआई की अदालत में चल रहे विवादित ढांचा विध्वंस का केस भी अंतिम दौर में है सुप्रीम कोर्ट में होने वाली आज सुनवाई को और कुछ समय के लिए टाल दिया है अब 4 जून को सभी आरोपियों की गवाही ली जाएगी और जिसके बाद अगस्त तक या फैसला सुनिश्चित होगा वही इस फैसले को लेकर आरोपियों ने स्पष्ट किया है कि जब सुप्रीम कोर्ट ने ही उस स्थान को मंदिर माना है तो फिर मस्जिद विध्वंस करने का आरोप ही नहीं साबित होता है। इसलिए आप जल्द से जल्द इस की सुनवाई कर समाप्त कर दिया जाएगा।

रामजन्मभूमि परिसर में विवादित ढांचा विध्वंस को लेकर सीबीआई की अदालत में होने वाली सुनवाई कोरोना के कारण अब 4 जून तक बढ़ा दिया है। इस दौरान सभी आरोपी लखनऊ के कोर्ट में मौजूद होंगे लेकिन इस पत्रिका टीम से खास बातचीत में बताया है कि जब कोर्ट ने स्वीकार कर लिया कि जहां रामलला विराजमान हैं वह रामजन्मभूमि है और सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहीं मस्जिद का नाम नहीं लिया है उस स्थान पर मंदिर था है और रहेगा इसलिए सीबीआई के अदालत में अभियुक्तों को बुलाकर अंतिम सुनवाई की जा रही है जिसके बाद रामजन्मभूमि से जुड़ा सभी मुकदमा हमेशा के लिए समाप्त हो जाएगा वही बताया कि यह सुनवाई मार्च में ही खत्म हो जाता और 4 अप्रैल को गवाही देने की तिथि भी निश्चित की गई थी लेकिन कोरोना के कारण नहीं बुलाया गया इसलिए अब 1 जून के बाद से ट्रेन व अन्य व्यवस्थाएं चालू हो जाएंगी धीरे धीरे महामारी कम होगा तो सीबीआई की अदालत भी हम लोगों की सुनवाई करेगा जिस पर हम लोगों को विश्वास है कि हम लोग अभियुक्त नहीं हैं जब सुप्रीम कोर्ट ने माना ही नहीं है कि वहां पर बाबरी मस्जिद नाम की कोई चीज की जिसको गिराया गया सुप्रीम कोर्ट के अनुसार वहां पर मंदिर था।

Show More
Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned