रामनवमी मेला से पहले मंदिरों को लेकर जारी हुआ निर्देश, सख्ती से कराया जाएगा पालन

- अयोध्या के मंदिरों पर निर्देश दर्शनार्थी को दीवार व मूर्ति का ना करने दें स्पर्श
- कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत कराया जाए दर्शन पूजन, प्रसाद वितरण पर भी लगी रोक

 

By: Satya Prakash

Published: 13 Apr 2021, 03:14 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या. चैत्र नवरात्र के साथ शुरू हो रहे रामनवमी मेला को लेकर जिला प्रशासन ने तैयारी तेज कर दी है अयोध्या के मठ मंदिरों में सोशल डिस्टेंस के साथ सीमित लोगों को ही दर्शन पूजन कराए जाने तैयारी कराई जा रही है। जिसको लेकर आज प्रसिद्ध मंदिर बड़ी देवकाली छोटी देवकाली, हनुमानगढ़ी, कनक भवन, सहित अन्य मंदिरों का जायजा लिया और मंदिर प्रशासन से कोविड डिस्टेंस के तहत दर्शन पूजन कराए जाने का निर्देश दिया है।

एकदम रामनवमी मेला की तैयारी लेकिन कोई प्रोटोकॉल को देखते हुए माना जा रहा है कि इस बार भी श्रद्धालुओं के प्रवेश प्रतिबंधित होंगे लेकिन उससे पहले जिला प्रशासन ने मठ मंदिरों को लेकर तैयारी शुरू कर दी है आज जिलाधिकारी अनुज झां व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार ने जायजा लिया। अयोध्या के प्रसिद्ध शक्तिपीठ बड़ी देवकाली व माँ छोटी देवकाली मंदिर और पाटेश्वरी मंदिर पर बड़ी संख्या में दर्शनार्थी दर्शन पूजन के लिए पहुंचते हैं जिसको लेकर जिला प्रशासन ने शक्तिपीठों पर मंदिर प्रशासन को निर्देश जारी करते हुए बताया है कि मंदिरों में सैनिटाइजर का प्रयोग कराया जाए इसके साथ ही बिना मास्क के प्रवेश न दिया जाए तो वही प्रसाद, चंदन, सिंदूर चरणामृत किसी भी रूप में ना ही दिया जाए और ना ही चढ़ाया जाए साथ ही मंदिर प्रशासन के द्वारा मंदिर कैंपस के अंदर 5 श्रद्धालुओं को ही एक साथ दर्शन करने के साथ बाहर जाने का मार्ग निर्धारित करें इस दौरान श्रद्धालु किसी भी तरह से दीवाल और मूर्ति को स्पर्श ना करने दें। प्रमुख स्थल हनुमानगढ़ी कनक भवन सहित अन्य दर्शनीय स्थलों कभी निरीक्षण कर सोशल डिस्टेंस और मास युवक के साथ ही दर्शन पूजन व धार्मिक अनुष्ठान कराए जाने का निर्देश दिया है

Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned