इंटरनेशनल सिख वेलफेयर ऑर्गेनाइजेशन का दावा राम मंदिर निर्माण सिखों का अधिकार

इंटरनेशनल सिख वेलफेयर ऑर्गेनाइजेशन कि जर्नल सिक्योरिटी सरदार जसवीर सिंह ने कहां बिना किसी चंदे के राम मंदिर का निर्माण कराएगी सिख समाज

अयोध्या : सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मंदिर निर्माण की दावेदारी को लेकर भी कई संगठन सामने आ रहे हैं सुप्रीम कोर्ट ने जहां सरकार को श्री राम मंदिर ट्रस्ट बनाए जाने इटावा एक तेज गति से चल रही है तो वही राम मंदिर निर्माण को लेकर कई हिंदू संगठन स्टेशन में शामिल होने के लिए लगातार प्रयास में है वही दूसरी ओर इंटरनेशनल फेयर ऑर्गेनाइजेशन मैं अयोध्या राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण कराने के साथ लवकुश के वंशज होने का भी दावा कर रही है इनके मुताबिक देश के किसी भी धर्म संगठन व संप्रदाय से ही राम मंदिर के लिए चंदा भी नहीं चाहिए। वहीं सरकार द्वारा बनाए जाने वाले ट्रस्ट में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मुखिया बनाए जाने की मांग की है।

इंटरनेशनल सिख वेलफेयर ऑर्गेनाइजेशन के जनरल सेक्रेटरी सरदार जसवीर सिंह मंडेर का दावा है कि अयोध्या में राम मंदिर सिख वेलफेयर करवाएगा।राम मंदिर निर्माण के लिए कोई चंदा नहीं लिया जाएगा। जैसे पूरे विश्व में गुरुद्वारे का निर्माण सेवा भाव से होता है उसी तरह सिख वेलफेयर एसोसिएशन मंदिर का निर्माण कराएगा।

श्री राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल होने के लिए लड़ झगड़ रहे साधु संतों को नसीहत देते हुए कहा कि सभी संत अपने-अपने मठ मंदिर चलाएं। ट्रस्ट के विवाद में न पडे। सुप्रीम कोर्ट ने पीएम मोदी और सीएम योगी को बनाने को कहा है ट्रस्ट। गुरु गोविंद सिंह और सिखों के दसों गुरु के बाद गद्दी गुरु ग्रंथ साहब को सौंप दी गई। कोई विवाद नहीं हुआ और कोई झगड़ा नहीं है।मंडेर का कहना है कि हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध व अन्य श्रीराम के आदर्शों को मानते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने मुस्लिमों का दावा खारिज कर दिया है और मुस्लिम पक्षकार पीछे हट गए हैं।पूरे विश्व के राम भक्त जन्मभूमि पर जल्द से जल्द भव्य राम मंदिर का निर्माण चाहते हैं। मंडेर ने दावा किया कि दस सिख गुरु साहबान लवकुश के वंशज हैं। गोविंद साहब पटना में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के रूप में दर्शन देकर शिवदत्त नामक ब्राह्मण को प्रसाद दिया था।

Show More
Satya Prakash
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned