जिला अस्पताल में ऑक्सीजन न मिलने से पीएसी जवान की मौत, परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप

चिकित्सक ने पहले किया आइसोलेट फिर आक्सीजन न होने की बात कह निजी अस्पातल ले जाने की दिया सुझाव
प्राइवेट अस्पताल ले जाते समय रास्ते में हो गई जवान की मौत

By: Neeraj Patel

Published: 24 Aug 2020, 08:35 PM IST

आजमगढ़. जिला अस्पताल के चिकित्सकों की लापरवाही एक बार फिर सामने आई है। यहां गंभीररूप से बीमार पीएसी जवान को पहले आइसोलेट किया गया जब उसकी रिपोर्ट निगेटिव आयी तो आईसीयू में भर्ती कर लिया गया लेकिन आईसीयू में आक्सीजन ही नहीं थी। मरीज की हालत बिगड़ने पर परिजनों को बताया गया कि आक्सीजन नहीं हैं जान बचानी है तो निजी अस्पातल ले जाइए। परिजन जबतक उसे निजी अस्पताल ले जाते जवान की मौत हो गयी। परिजनों ने पीएसी जवान की मौत के लिए अस्पताल प्रशासन को जिम्मेदार बताया है।

मेंहनगर तहसील क्षेत्र के गोला बाजार निवासी लियाकत अली 45 वर्ष पीएसी जवान था। वर्तमान में उसकी तैनाती गोरखपुर में थी। हाल में ही वह छुट्टी लेकर घर आया था। रविवार की सुबह एका-एक लियाकत की हालत बिगड़ गयी। परिजन उसे लेकर जिला अस्पातल पहुंचे। यहां इमरजेंसी में डॉ. मनोज ने जवान को देखा और कोरोना जांच के लिए आइसोलेशन वार्ड में भेज दिया।

जांच के दौरान उसे आक्सीजन पाइप लगाई गयी लेकिन आक्सीजन थी ही नहीं। एक घंटे बाद रिपोर्ट निगेटिव आने पर उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया। वहां भी आक्सीजन नहीं थी। इस बीच नर्स ड्यूटी पूरी हो जाने की बात कह कर निकल गई। अनुरोध करने पर बताया कि यहां आक्सीजन नहीं है। मरीज को बचाना है तो एक निजी अस्पताल का नाम बताकर वहां तत्काल ले जाने को कहा। मरीज को वहां भर्ती नहीं किया गया।

परिवार के लोग जवान को निजी अस्पताल ले जा रहे थे कि रास्ते में उसकी मौत हो गयी। मृतक के पुत्र अमन अली ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से पिता की जान गई है। उधर, जिला अस्पताल में आक्सीजन उपलब्ध नहीं होने की वजह से वहां भर्ती छह मरीजों को शनिवार देर रात उनके तीमारदारों ने निजी अस्पतालों में भर्ती कराया। तीमारदारों का कहना था कि मरीजों को आक्सीजन की जरूरत थी और अस्पताल में वह उपलब्ध नहीं थी। ऐसे में अस्पताल प्रशासन सिर्फ रेफर पर्ची बनाने की बात कह रहा था। वहीं प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक श्रीकृष्ण गोपाल सिंह का कहना है कि यहां सेंट्रलाइज्ड आक्सीजन की व्यवस्था है। आक्सीजन की अस्पताल में कहीं कोई कमी नहीं है। मरीज के परिजन स्वयं यह लिख कर गए हैं कि वह मरीज को कहीं और ले जा रहे हैं। मरीज की मौत परिजनों की लापरवाही से हुई है।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned