एसडीएम द्वारा साथी की पिटाई से नाराज कारोबारियों के सब्र का बांध टूटा, उखाड़ डाला कोतवाली का गेट

-दोनों पक्षों में हुई जमकर धक्कामुक्की, दो पुलिसकर्मी घायल

-पुलिस ने लाठीचार्ज कर कारोबारियों को खदेड़ा, कई को आयी चोटें

-पुलिस ने समाजसेवी सहित कई को लिया हिरासत में

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. दुकान में मास्क न लगाकर बैठने पर एसडीएम द्वारा सरेआम सड़क पर खींचकर की गयी कारोबारी की पिटाई और प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई न करने से नाराज कारोबारियों के सब्र का बांध मंगलवार को उस समय टूट गया पर आलाधिकारी कारोबारी पर ही अभद्रता का आरोप लगाने लगे। प्रशासन के रवैये से नाराज कारोबारियों ने कोतवाली परिसर में प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसी दौरान किसी ने पत्थर चलाया जिससे एक आरक्षी को चोट लगी। इसके बाद दोनों पक्षों में जमकर धक्कामुक्की हुई। कुछ लोगों ने कोतवाली का गेट तोड़ दिया। इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को खदेड़ दिया। इस दौरान दो आरक्षी व कई कारोबारी घायल हो गए है। पुलिस ने समाजसेवी सहित कई लोगों को हिरासत में ले लिया है। घटना को लेकर तनाव बरकरार है।

बता दें कि सराफा कारोबारी आशीष गोयल मंगलवार को अपनी दुकान पर बैठे थे। उसी दौरान एसडीएम सदर गौरव कुमार अपनी टीम के साथ दुकान पर पहुंचे और मास्क न लगाने का आरोप लगाते हुए आशीष को पीट दिया। इसके बाद पुलिस ने भी सड़क पर खींचकर उसकी पिटाई की। इसके बाद कारोबारी एसडीएम व सीओ पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए कोतवाली पहुंचकर धरने पर बैठ गए। जानकारी होने पर पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर पंकज पांडेय भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। कारोबारियों ने अधिकारियों से एसडीएम के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

एएसपी ग्रामीण ने पीड़ित कारोबारी को ही दोषी ठहराया तो कारोबारी नाराज होकर धरने पर बैठ गए। यहीं नहीं कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रवीण सिंह, भाजपा नेता अजय सिंह भी कारोबारियों के साथ खड़े हो गए। दोनों पक्षों में विवाद बढ़ता गया। इसी बीच अपराह्न करीब 3.30 बजे किसी ने भीड़ से पत्थर चलाया और वह सिपाही को लग गया। सिपाही के घायल होते ही पुलिस और कारोबारियों के बीच विवाद बढ़ गया।

दोनों पक्षों में धक्कमुक्की शुरू हुई तो कुछ लोगों ने कोतवाली का गेट तोड़ दिया। फिर क्या था पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे कारोबारियों पर लाठीचार्ज कर दिया। इसके बाद मौके पर अफरा तफरी मच गयी। दो आरक्षी व कई कारोबारी चोटिल हो गए। पुलिस ने समाजसेवी सहित कई लोगों को हिरासत में ले लिया। घटना को लेकर कारोबारियों में आक्रोश साफ दिख रहा है। इस मामले में कोई कोई पलिस अधिकारी कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं है।

इस मामले में जिलाधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि कारोबारियों से बातचीत हो गयी है। उन्होंने मेडिकल कराने की मांग की थी। पीड़ित कारोबारी का मेडिकल करा दिया गया है। सभी लोग संतुष्ट होकर अपने अपने घर चले गए है। बाकी की जो मांगे है उसपर विचार किया जा रहा है।

BY Ran vijay singh

coronavirus
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned