सरकारी स्कूल के 10 हजार विद्यार्थियों को दो माह का मिलेगा सूखा खाद्यान्न

गेहंू व चावल अभिभावकों के माध्यम से किया जाएगा वितरित

By: Ramakant dadhich

Published: 12 Jan 2021, 11:47 PM IST

कोटपूतली. राजकीय स्कूलों में पढऩे वाले कक्षा 1 से 8 तक के विद्यार्थियों को कोरोना काल के दौरान चौथी बार नवम्बर व दिसम्बर माह का खाद्यान्न गेहंू व चावल उनके अभिभावकों के माध्यम से वितरित किया जाएगा। सरकार ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए कक्षा 1 से 8 तक के छात्रों के स्कूल आने पर आगामी आदेश तक रोक लगा रखी है। इसलिए अभिभावक को बालकों का मिड डे मील के तहत का खाद्यान्न उपलब्ध करवाया जा रहा है। कोरोना काल के दौरान बालकों के स्कूल नहीं आने से उन्हें मिड डे मील उपलब्ध नहीं हो रहा था। ऐसे में सरकार इस योजना का लाभ सूखा खाद्यान्न वितरित करके मुहैया करा रही है। नवम्बर व दिसम्बर कार्य दिवस के आधार पर 2 महीने के कुल शैक्षणिक दिवस 38 दिनों का गेहूं चावल वितरण किया जा रहा है। इसमें नवम्बर माह के 17 व दिसम्बर माह में 21 कार्य दिवस शामिल हैं।

चावल की मात्रा होगी एक तिहाई
मिड डे मील सहायक कमल कटारिया ने बताया कि बालकों को वितरित किए जाने वाले गेहंू व चावल में चावल की मात्रा एक तिहाई होगी। कक्षा 1 से 5 तक के विद्यार्थियों को नवम्बर व दिसम्बर का 3 किलो 800 ग्राम व कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थी को 5 किलो 700 ग्राम गेहूं-चावल दिया जाएगा। ग्राम पंचायत स्तर पर संचालित विद्यालयों में पीईईओ एवं शहरी क्षेत्र के विद्यालयों में ब्लॉक शिक्षा अधिकारी अपने अपने क्षेत्र के विद्यालयों में अध्यनरत पात्र विद्यार्थियों के अभिभावकों को वितरण कराएंगे। संस्था प्रधान अभिभावकों को खाद्यान्न वितरण की सूचना देंगे। जिससे वितरण में असुविधा नहीं हो।


163 स्कूलों में 103196 बालक नामांकित
सूखा राशन वितरण स्कूलों के संस्था प्रधान, मिड डे मील प्रभारी व अन्य शिक्षक की समिति के माध्यम से स्कूल परिसर में किया जाएगा। स्कूलों में नामांकन के अनुरूप खाद्यान्न की आपूर्ति जिला रसद विभाग की ओर से की जा रही है। इस क्षेत्र के 163 विद्यालयों में सितम्बर तक 10316 बालक पंजीकृत है। इसके बाद नामांकित बालकों को भी खाद्यान्न वितरित किया जाएगा। वैश्विक महामारी कोरोना के चलते स्कूल बंद होने के दौरान भी छात्रों को पोषाहार योजना का लाभ मिलता रहे इसके लिए पहले चरण में जून 14 मार्च से 30 जून तक का सूखा राशन वितरित किया गया था। इसके बाद दूसरे चरण में जुलाई-अगस्त और तृतीय चरण में सितम्बर महिने में खाद्यान्न वितरित किया गया था। अब चौथे चरण में नवम्बर और दिसम्बर का खाद्यान्न वितरित किया जा रहा है।


कोम्बो पैक नहीं हुए उपलब्ध
सरकार ने कोरोना काल के दौरान सूखा खाद्यान्न के अलावा मिर्च मसालों के कोम्बो पैक व एक लीटर रिफाइण्ड तेल उपलब्ध करवाने की घोषणा की थी। लेकिन स्कूलों में अभी तक कोम्बो उपलब्ध नहीं हुए। सूखे खाद्यान्न तैयार करने के लिए मिर्च मसालों के अलावा तेल की जरूरत होती है। ऐसे में सरकार ने सूखे खाद्यान्न के साथ मसालों को कोम्बो पैक व रिफाइण्ड तेल मुहैया कराने की बात कही थी। लेकिन रसद विभाग से अभी तक कोम्बों पैक की आपूर्ति शुरू नहीं हुई है।

Ramakant dadhich Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned