अब नवरात्रि उत्सव पर छाया कोरोना संकट

सामोद में पहाडिय़ों में स्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ महामाया मन्दिर में कोरोना संक्रमण को लेकर 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले शारदीय नवरात्र पर भी कोरोना संकट मंडराता दिखाई दे रहा है।

By: Ashish Sikarwar

Published: 12 Oct 2020, 10:24 PM IST

जयपुर/सामोद. सामोद में पहाडिय़ों में स्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ महामाया मन्दिर में कोरोना संक्रमण को लेकर 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले शारदीय नवरात्र पर भी कोरोना संकट मंडराता दिखाई दे रहा है।
मंदिर के महंत मोहनदास ने बताया कि मंदिर में शारदीय नवरात्र में यहां नौ दिनों तक मेले का आयोजन किया जाता है। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। कई श्रद्धालु तो यहां नवरात्र करते थे, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते चैत्र नवरात्र की तरह शारदीय नवरात्र मेला लगेगा या नहीं, इसे लेकर संशय बना हुआ है। हालांकि सरकार की नई एडवाइजरी में देव स्थानों को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया है, लेकिन 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले नवरात्रा के दौरान भी मेले के आयोजन पर कोरोना का संकट मंडरा रहा है। मंदिर महंत मोहनदास ने बताया कि सरकार ने मंदिर तो खोल दिए हंै, लेकिन प्रसाद, फूल माला सहित अन्य सामग्री चढ़ाने, मंदिरों में घंटी बजाने सहित भीड़भाड़ पर पूर्णतया पाबंदी के चलते मेले को लेकर संशय है। कई परिवारों के तो खाने के भी लाले पड़ गए हैं।

 

इस बार नहीं होगी अजीतगढ में रामलीला
अजीतगढ. कोरोना के बढ़ते प्रभाव के कारण इस पर बार रामलीला नहीं होगी और दशहरा मेला भी नहीं भराएगा। नवयुवक नाट्य रामलीला कला मंडल अध्यक्ष जुगलकिशोर शर्मा ने बताया कि कोरोना के कारण एवं सरकार के दिशा निर्देश अनुसार अजीतगढ़ कस्बे में 45 वर्षों से हो रही रामलीला नहीं होगी। क्षेत्रीय विकास परिषद अजीतगढ़ अध्यक्ष जीएल टेलर ने बताया अजीतगढ़ के स्कूल खेल मैदान पर दशहरा मेला व दशहरा महोत्सव होता है। वह भी कोरोना के कारण इस बार नहीं होगा।

 

पंचधाम मंदिर में नहीं बनी डामर रोड
गोहंदी. गोहंदी से हरसूलिया जाने वाली रोड पर स्थित खानियों वाली नाड़ी में बने पंचधाम तीर्थ स्थल पर आज तक डामरीकरण नहीं हुआ। ग्रेवल सड़क को वर्षों से डामरीकरण का इंतजार है। लोगों ने बताया कि डामरीकरण नहीं होने से पत्थर निकलने के साथ सड़क जगह-जगह से क्षतिग्रस्त हो रही है। आने वाले भक्तों व राहगीरों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। इसके बारे में पूर्व सरपंच लक्ष्मीदेवी को भी कई बार अवगत करवाया था। पूर्व सरपंच लक्ष्मीदेवी ने बताया कि डामरीकरण नहीं होने से आमजन को पंचराम मंदिरों के दर्शन करने के लिए भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। डामरीकरण के लिए कई बार सार्वजनिक निर्माण विभाग को भी अवगत करवाया इसके बाद भी समस्या जस की तस है।

Show More
Ashish Sikarwar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned