प्रदेश के 80 हजार समूह करेंगे सरकार के खिलाफ आंदोलन

स्वं सहायता समूह, रसोईयां संगठन की आवश्यक बैठक दोपहर को जिला कार्यालय बालाघाट में आयोजित की गई थी।

By: mukesh yadav

Published: 20 Jul 2019, 05:04 PM IST

बालाघाट. शासकीय प्राथमिक, माध्यमिक एवं आंगनवाड़ी केन्द्रों में मध्यान्ह भोजन सांझा चुल्हा का क्रियान्वयन कार्य करने वाले स्वं सहायता समूह, रसोईयां संगठन की आवश्यक बैठक दोपहर को जिला कार्यालय बालाघाट में आयोजित की गई थी। यह बैठक स्वं सहायता समूह रसोईयां संगठन प्रदेश उपाध्यक्ष गेंदलाल कारे के मुख्य आतिथ्य, गीता पालीवाल की अध्यक्षता एवं ज्ञानीराम मेश्राम, राजकुमार मोहारे, मारोती गोमासे के विशेष आतिथ्य में प्रारंभ हुई। जिसमें समूह के स्थान मध्यान पर भोजन की जिम्मेदारी एनजीओं के हवाले किए जाने पर विचार विमर्श किया गया।
चर्चा में ब्लाक अध्यक्ष गीता पालीवाल ने बताया कि प्रदेश में करीब 1 लाख 25 हजार प्राथमिक व माध्यमिक संचालित स्कूलों में करीब 80 हजार स्व सहायता समूह द्वारा विगत 12 वर्षो से मध्यान भोजन विद्यार्थियों परोसा जा रहा है। जिसे अब केबिनेट की बैठक में प्रस्ताव लेकर कमलनाथ सरकार ग्राम के गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार से रोजी रोटी छिनकर एनजीओं को इसकी जिम्मेदारी सौंपे जाने की बात कर रही है। पालीवाल ने बताया कि कैबिनेट की बैठक में लिए गए इस प्रस्ताव से समूहों में भारी आक्रोश है। जिसके विरोध में 80 हजार समूह के करीब 2 लाख 40 हजार रसोईयों द्वारा आंदोलन करने का निर्णय लिया गया है।
बैठक के बाद जिलाध्यक्ष के रिक्त पद होने के कारण आगामी चुनाव प्रकिया होने तक सर्वसम्मती से अनुसया भवनलाल चाकोले को कार्यवाहक अध्यक्ष मनोनित किया गया। बैठक में स्वं सहायता समूह रसोईयां संगठन प्रदेश उपाध्यक्ष गेंदलाल कारे, गीता पालीवाल, ज्ञानीराम मेश्राम, राजकुमार मोहारे, मारोती गोमासे, नरेश खरे, नवीन बढई, परमिला गरपुंजे, संगीता रावते, कौतिका पारधी, इमला कुथे, संध्या ठाकरे, लता मेश्राम, चेतना तोरनकर, भवनलाल चाकोले, दयानंद ब्रम्हे, शेरसिंह ठाकरे, तेखलाल डहरवाल सहित समस्त विकासखंडो के पदाधिकारी एवं रसोंईया उपस्थित रहे।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned