scriptIndefinite strike of postal employees begins | डाक कर्मचारियों की बेमियादी हड़ताल शुरु | Patrika News

डाक कर्मचारियों की बेमियादी हड़ताल शुरु

locationबालाघाटPublished: Dec 12, 2023 10:43:21 pm

Submitted by:

Bhaneshwar sakure

कार्यालय के सामने दिया धरना
बालाघाट, सिवनी जिले के डाक कर्मचारी हुए शामिल

12_balaghat_101.jpg

बालाघाट. सात सूत्रीय समस्याओं के शीघ्र निराकरण की मांग को लेकर आल इंडिया ग्रामीण डाक सेवक यूनियन और नेशनल यूनियन ऑफ ग्रामीण डाक सेवक संघ ने बेमियादी हड़ताल शुरु की है। मंगलवार को कर्मचारियों ने डाकघर बालाघाट के सामने प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में जिले के 1200 ने अपनी सहभागिता दर्ज कराई है। हड़ताल के पहले ही दिन ग्रामीण अंचलों में डाक सेवाएं बाधित रही। हड़ताल का असर ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा देखा गया। बालाघाट जिले के 454 और सिवनी जिले के 240 शाखा कार्यालायों में संचालित आधार सेंटर बंद रहे। इससे ग्रामीणों को भारी परेशानी उठानी पड़ी। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने जमकर नारेबाजी भी की।
बालाघाट डिविजन के संभागीय सचिव इशुलाल बड़पात्रे ने बताया कि मंगलवार से देशभर के तीन लाख से अधिक ग्रामीण डाक सेवक हड़ताल पर हैं। जब तक सरकार उनकी मांगे पूरी नहीं करती, तब तक हड़ताल जारी रहेगी। उन्होंने बताया कि वह विगत कई वर्षों से समान वेतनमान, पेंशन, ग्रेच्युटी में वृद्धि, ग्रामीण डाक सेवकों व उनके स्वजनों को चिकित्सकीय सुविधाएं देने जैसी प्रमुख मांगों को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है। लेकिन सरकार उनकी मांगों को गंभीरता से नहीं ले रही है।
दो माह पूर्व की गई थी सांकेतिक हड़ताल
प्रदर्शनकारियों ने बताया कि उन्होंने अपनी लंबित मांगों को लेकर 5 अक्टूबर को सांकेतिक हड़ताल की थी। यह हड़ताल संभागीय और शाखा स्तर पर की गई थी। इस दिन वादा निभाओ दिवस मनाते हुए शांतिपूर्वक प्रदर्शन भी किया गया था। लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ। सांकेतिक हड़ताल बेअसर साबित होने के बाद मजबूरीवश बेमियादी हड़ताल पर जाना पड़ा है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में डाकघर से मिलने वाली सेवाएं या शासन की योजनाओं का डाकघरों के माध्यम से मिलने वाला लाभ प्रभावित हो रहा है।
सिवनी के भी डाक कर्मी हुए शामिल
प्रदर्शनकारियों ने बताया कि बालाघाट में डाकघर का बालाघाट व सिवनी का संभागीय कार्यालय है, जिसके कारण यहां बालाघाट के अलावा सिवनी के भी ग्रामीण डाक सेवक हड़ताल में पहुंचे हैं। धूमा, सिवनी से आए संभागीय अध्यक्ष चंद्रभान सिंह पटेल, खामी बरघाट से आए कार्यकारिणी कोषाध्यक्ष लिखीराम नरगिरे ने बताया कि लंबे समय से ग्रामीण डाक सेवक रोजना आठ घंटे काम कर रहे हैं। लेकिन उन्हें वेतन सिर्फ चार घंटे का दिया जा रहा है। जिससे उन्हें आर्थिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। वेतन में इस विसंगति से कई वरिष्ठ कर्मचारियों का वेतन 30-35 साल की नौकरी के बाद भी 20 हजार रुपए से अधिक नहीं बढ़ पा रहा है।

ट्रेंडिंग वीडियो