मप्र वन कर्मचारी संघ ने १९ सूत्रीय मांगों का सौंपा ज्ञापन

मप्र वन कर्मचारी संघ ने १९ सूत्रीय मांगों का सौंपा ज्ञापन

Mantosh Kumar Singh | Publish: Mar, 14 2018 08:22:30 PM (IST) Balaghat, Madhya Pradesh, India

वन कर्मचारियों की लंबित समस्याओं के निराकरण व वेतन विसंगति सहित अपनी १९ सूत्रीय मांगोंं का ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार लांजी को सांैपा।

मप्र वन कर्मचारी संघ ने १९ सूत्रीय मांगों का सौंपा ज्ञापन
बालाघाट/लांजी। मप्र वन कर्मचारी संघ शाखा लांजी ने तहसील कार्यालय पहुंचकर वन कर्मचारियों की लंबित समस्याओं के निराकरण व वेतन विसंगति सहित अपनी १९ सूत्रीय मांगोंं का ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार लांजी को सांैपा। ज्ञापन के संदर्भ में उल्लेख किया कि ब्रह्मस्वरूप वेतन आयोग, अग्रवाल वेतन आयोग, बोरा-मुश्रान, समिति की सिफारिश एवं अपर मुख्य सचिव वन द्वारा संघ के साथ २००८ में किया गया लिखित समझौते के पालन, केन्द्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्रालय द्वारा छटवें वेतन आयोग को की गई सिफारिश के पत्र के पालन किए जाने।
मप्र के विभिन्न वनांचलों में पदस्थ कार्यपालिक वन कर्मचारी तपती दोपहरी, कड़कती ठंड एवं वर्षा में वनों की सुरक्षा में लगे हुए हंै। जो चिन्ता का विषय होकर मनोबल गिराने वाला है। मप्र के वनांचल में पदस्थ कर्मचारियों की वेतन विसंगति वर्षो पुरानी है। इस संंबंध में अपर मुख्य सचिव वन रंजना चौधरी के द्वारा वर्ष २००८ में लिखित समझौता शासन द्वारा आश्वासन दिए जाने के बाद भी वेतन विसंगति को दूर नहीं किया गया। राजस्व विभाग एवं पुलिस विभाग की तुलना में सबसे कठिन कार्य करने वाले वन कर्मचारियों का वेतनमान कम होने के कारण चिंताजनक है एवं मनोबल गिराने वाला है। कई बार मप्र शासन के मंत्रियों एवं सचिवों द्वारा लंबित मांगों का निराकरण का आश्वासन दिए जाने के बावजूद आज दिनांक तक वेतनमान व अन्य समस्याओं का निराकरण नही होने से वन कर्मचारी आन्दोलन करने पर उतारू है। इसी के तहत ज्ञापन समस्त जिला एवं तहसील मुख्यालय स्तर पर दिया गया।
यह रहे उपस्थित
इस अवसर पर मप्र वन कर्मचारी संघ शाखा लांजी के अध्यक्ष श्रीराम घरते, उपाध्यक्ष संतोष पारधी, मयुर शाडिल्य, नारायणसिंह तेकाम, रमेश वाकले, देवेन्द्र सहारे, अशोक बागड़े, महेश नंदा, एसएल चिचले, तरुण चौपरिया, लक्ष्मण शर्मा, टेकचन्द मेश्राम, विनितसिंह, मुकेश उपराड़े, मनोज मरकाम, योगेन्द्र मेरावी सहित भारी संख्या में कर्मचारीगण उपस्थित थे।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned