script 12 केन्द्रों में प्रारंभ नहीं हो पाया समर्थन मूल्य में धान उपार्जन कार्य | Paddy procurement work under support price could not be started in 12 | Patrika News

12 केन्द्रों में प्रारंभ नहीं हो पाया समर्थन मूल्य में धान उपार्जन कार्य

locationबालाघाटPublished: Dec 09, 2023 07:34:27 pm

Submitted by:

mukesh yadav

अपनी उपज को नमी से बचाने परेशान किसान
बढ़े हुए मूल्य से खरीदी कार्य प्रारंभ किए जाने की मांग

12 केन्द्रों में प्रारंभ नहीं हो पाया समर्थन मूल्य में धान उपार्जन कार्य
12 केन्द्रों में प्रारंभ नहीं हो पाया समर्थन मूल्य में धान उपार्जन कार्य

बालाघाट/वारासिवनी। प्रशासन ने एक दिसंबर से धान उपार्जन कार्य प्रारंभ करने के निर्देश दिए थे। लेकिन जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शाखा वारासिवनी के अंतर्गत आने वाले 12 केन्द्रों में धान उपार्जन कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया है। किसान धान खरीदी शुरू की राह ताक रहे हैं। किसानों के अनुसार उन्होंने चुराई कार्य करने के बाद अपनी उपज को मकान में रख दी है। उपज में नमी का स्तर बढऩे की संभावना है। ऐसे में सोसाइटी उक्त क्वालिटी की धान लेगा या नहीं इससे किसान परेशान है। जल्द शासन से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी प्रारंभ करने की मांग की जा रही है।
किसान केन्द्र में जानकारी लेने पहुंच रहे हैं। लेकिन खरीदी केंद्र का पंजीयन ना हो पाने के कारण किसानों की धान खरीदी नहीं जा रही है और ना ही किसानों का स्लॉट बुक किया जा रहा है। किसान बेहद चिंतित है कि समय रहते उनकी धान खरीदी नहीं गई या मौसम की खराबी से कुछ हो गया, तो वह क्या करेंगा। अधिकांश किसानों ने कर्ज पर फसल लगाई गई है। शासन से जल्द धान खरीदी कर शासन की घोषणा अनुसार बढ़े हुए मूल्य में धान उपार्जन करने की बात कही जा रही है।
मौसम परिवर्तन से परेशानी
कुछ दिनों से क्षेत्र में मौसम अपने अलग ही तेवर दिखा रहा है। कभी धूप तो कभी अचानक बदली छा रही है। बूंदाबांदी का दौर भी चल रहा है। लगातार बदलते मौसम से किसान परेशान है, जो अपने किसानी के विभिन्न कार्य करने के लिए संकोच कर रहे हैं। कुछ किसान थ्रेसर के माध्यम से चुराई कर अपनी धान को सुरक्षित कर रहे हैं।
नए मूल्यों में की जाए खरीदी
शासन स्तर पर पुराने समर्थन मूल्य 2184 रुपए प्रति क्विंटल धान खरीदी जाती थ्ज्ञी। वहीं विस चुनाव में भाजपा की ओर से 3100 रुपए के समर्थन मूल्य पर धान खरीदने की घोषणा की गई है। भाजपा की सरकार बनाई जा रही है। अब किसान जल्द बढ़े हुए मूल्य पर खरीदी प्रारंभ करने की मांग कर रहे हैं।
थानेगांव को नहीं बनाया केंद्र
वारासिवनी अंतर्गत 10 सेवा सहकारी समितियां है। जिसमें 12 खरीदी केंद्र स्थापित कर धान खरीदी की जाती है। लेकिन इस वर्ष 9 सेवा सहकारी समिति के करीब 11 खरीदी केंद्रों की स्थापना की गई है। इनका पंजीयन वर्तमान तक नहीं हो पाया है। इस कारण इन केंद्रो में स्लॉट बुकिंग नहीं हो रही है। यहां खरीदी कार्य पूरी तरह बंद पड़ा हुआ है। इसमें थानेगांव सेवा सहकारी समिति जो प्रतिवर्ष खरीदी केंद्र रहता है, उसे इस वर्ष खरीदी केंद्र नहीं बनाया गया है। इस गांव के किसानों में नाराजगी है।
बकाया भुगतान की मांग
सेवा सहकारी समितियों के अधिकारी कर्मचारी प्रशासन से बीते वर्ष की गई धान उपार्जन के दौरान समिति के द्वारा कमाए गए लाभ जो शासन पर बकाया है, उसका भुगतान करने के लिए मांग कर रहे हैं। जब तक भुगतान नहीं होता तब तक धान खरीदी नहीं करने की बात कहीं जा रही है।
वर्सन
वर्तमान में मौसम से परेशानी बनी हुई है। काफ ी कटाई बाकी है। शासन ने 3100 रुपए समर्थन मूल्य बढ़ाया है। इसे तत्काल लागू करना चाहिए। मौसम को देखते हुए जल्द खरीदी शुरू करें। ताकि किसानों की उपज सुरक्षित हो सके।
दिलीप नरबदे, किसान
कई किसानों की धान चुराई हो गई है। पर खरीदी कार्य प्रारंभ नहीं हुआ है। किसान इंतजार कर रहे हैं। निर्धारित दिनांक से सात दिन अधिक हो गए हैं। खरीदी प्रारंभ नहीं हो पाई है।
राजू मेश्राम, किसान
हमारी शाखा के अंतर्गत 10 सेवा सहकारी समिति है। जिसके 12 केंद्र है। इसमें थानेगांव छोडकऱ 11 केंद्र की स्थापना हो चुकी है। पंजीयन के निर्देश दिए जा चुके हैं। जब तक केंद्र का पंजीयन नहीं होगा स्लॉट बुक नहीं हो होगा। बारदाना मिलने पर ही खरीदी हो सकती है। बढ़े हुए मूल्य को लेकर कोई आदेश नहीं आए है।
विजय मिश्रा, प्रबंधक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शाखा वारासिवनी

ट्रेंडिंग वीडियो