बढ़ती महंगाई ने तोड़ी गरीब व किसानों की कमर

पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस व बढ़ती महंगाई का विरोध
कांग्रेसियों ने किया एक दिवसीय सांकेतिक धरना प्रदर्शन

By: mukesh yadav

Published: 11 Jun 2021, 07:55 PM IST


बालाघाट। देश पिछले एक साल से कोरोना महामारी की चपेट में है। ऐसे में कई लोगों को ठीक तरह से रोजगार उपलब्ध नहीं हो पा रहा है और केंद्र व राज्य सरकार दिनों दिन महंगाई बढ़ाते जा रही है। ऐसे में गरीब और मध्यम वर्गीय लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। जिसके विरोध में ११ जून को जिला एवं शहर कांग्रेस कमेटी के तत्वावधान में प्रांतीय आह्वान पर शहर के काली पुतली चौक में सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया गया। इस दौरान जिला कांग्रेस कमेटी बालाघाट के अध्यक्ष विश्वेश्वर भगत ने कहा कि भाजपा की मोदी सरकार ने पिछले एक साल में इतनी महंगाई बढ़ाई है कि गरीब और मध्यम वर्गीय और किसानों की कमर तोड़ दी है। यहां मजदूरों को कोरोना काल होने से ठीक तरीके से रोजगार मिल नहीं रहा है और महंगाई बढ़ाई जा रही है। जिससे लोग कमाएंगे क्या और बचाएंगे क्या वाली कहावत चरितार्थ हो रही है। महंगाई को लेकर एक ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम जिला प्रशासन को दिया गया।
ऐसे बढ़ रही महंगाई
धरना प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों ने बताया कि जनवरी २०२१ को पेट्रोल ९१.४६ पैसे और डीजल ८१.६२ पैसे की दर से था। लेकिन आज १०५.०४ पैसे व डीजल ९४.१६ पैसे हो गया। वहीं पिछले साल ८० रुपए लीटर खाने का तेल मिल रहा था, जो एक साल के भीतर १६० रुपए लीटर यानी दोगुना हो गया। गैस के भी दाम ऐसे ही बढ़ रहे हंै। इसके अलावा दाल सहित अन्य चीजों के दाम बढ़ गए हंै। डीजल के रेट बढऩे से किसानों को खेती करने में भी परेशानी होने लगी है। धरना प्रदर्शन के दौरान अनूप सिंह बैस, श्याम पंजवानी, भीम फुलसुघे सहित अन्य कांग्रेसी शामिल रहे।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned