दो हजार ने बनाया कातिल, भेजे गए जेल

ददिया हत्याकांड का 24 घंटे के भीतर पर्दाफास

By: mukesh yadav

Published: 13 Oct 2019, 02:25 PM IST

लालबर्रा. थाना अंतर्गत ग्राम पंचायत ददिया में स्थित नहर के पुलिया के समीप गत 10 अक्टूम्बर को जमुनिया थाना चरगवा जिला जबलपुर निवासी सुभाष (२४) पिता नीलकंठ लाडिय़ा की हत्या कर दी गई थी। इस मामले को २४ घंटे के भीतर ट्रेस करते हुए पुलिस ने हत्यारों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया। यहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।
प्राप्त जानकारी अनुसार गत 10 अक्टूम्बर को शव की शिनाख्त मृतक के चाचा सहजपुर थाना भेड़ाघाट जिला जबलपुर द्वारा अपने भजीते के रूप में कर लालबर्रा थाने में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला पंजीबद्ध करवाया था। इसके बाद पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध धारा 302, 201 भादवि की धारा के तहत मामला दर्ज कर जांच में लिया। मृतक सुभाष लाडिय़ा की हत्या के कारणो को जानने के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया। एसपी के निर्देशानुसार व अनुविभागीय अधिकारी वारासिवनी के मार्गदर्शन पर थाना प्रभारी आरएम रोमडे को जांच में नियुक्त किया गया। पुलिस ने कुछ लोगो को पुछताछ के लिए थाने लाया। तब आरोपियों ने हत्या का राज उगलना शुरू कर दिया। आरोपियों ने बताया कि उन्होंने पहले शराब पीने के लिए मृतक सुभाष लडिया की बाइक से बम्हनी गए और शराब पीने के दौरान सुभाष के जेब में 2 हजार रुपए का नोट देखकर आरोपी दीपक उर्फ गोलू, रोहित मेश्राम और रितेश पडवार ने सुभाष लडिया की तुरंत ही हत्या की योजना बना डाली। उसे बाइक में बैठाकर ददिया नहर किनारे ले जाकर हत्या करने की नियत से मारपीट करना शुरू कर दिया और जेब में रखे पैसे भी छीन लिए। जिसका विरोध सुभाष ने किया तो उसके सिर पर गोलू ने वार कर दिया और उसे नहर में फंेक दिया। मृतक के पुन: नहर से बाहर निकलने पर तीनों आरोपियों ने पकड़ा फिर बम्हनी गए तथा बम्हनी कटंगा रोड पर तीनों आरोपियों ने तार, रस्सी से गला घोंटकर तथा डंडे, लकड़ी से मारकर हत्या कर शव नहर के पानी में फंेक दिए। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त बाइक, तार, रस्सी एवं डंडा जब्त कर 24 घंटे के भीतर ददिया हत्याकांड का खुलासा किया।
इनकी रही भूमिका
मामले को ट्रेस करने में एसडीओपी एनआर परतेती, आरएम रोमडे, उनि संदीप मंगोलिया, लक्ष्मीचंद चौधरी, जयंत पिछोड़े, राजिक सिद्धीकी, भूमेश्वर वामनकर, नरेन्द्रसिंह, आर. प्रवेश वर्मा, शहजाद खान, पुष्पेन्द्र रावत, सुमंत धुर्वे, दारासिंह बघेल, दीनू बघेल, शिशुपाल कटरे, मनोज बघेल, अरविंद तिवारी, प्रमोद झारिया, चन्द्रकिशोर तिवारी सहित अन्य का सराहनीय सहयोग रहा।

mukesh yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned