30 साल की महिला पीसीएस अधिकारी का शव घर में पंखे से लटकता पाया गया, कमरे में सुसाइड नोट भी मिला

पुलिस को कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला। अब पुलिस इसी सुसाइड नोट और अधिशासी अधिकारी की कॉल डिटेल के जरिए आत्महत्या की वजह की जांच में जुट गई है। हालांकि मृतका के पिता पिता जय ठाकुर राय ने कहा है कि उनकी बेटी इतनी कमज़ोर नहीं थी, वह आत्महत्या नहीं कर सकती।

बलिया. यूपी के बलिया ज़िले में मानियर नगर पंचायत में अधिशासी अधिकारी के पद पर तैनात 30 साल की पीसीएस अधिकारी का शव उनके किराये के मकान के कमरे में पंखे से लटकता मिला। घटना सोमवार शाम की है, जब वह अपने घर में अकेले थीं। पड़ोसियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने दरवाज़ा तोड़कर शव को पंखे में लगे फंदे से उतारा। पुलिस को कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला। अब पुलिस इसी सुसाइड नोट और अधिशासी अधिकारी की कॉल डिटेल के जरिए आत्महत्या की वजह की जांच में जुट गई है। हालांकि मृतका के पिता पिता जय ठाकुर राय ने कहा है कि उनकी बेटी इतनी कमज़ोर नहीं थी, वह आत्महत्या नहीं कर सकती। उन्होंने बेटी की हत्या कर कमरे में लटकाने का आरोप लगाया है।

 

दो साल पहले मानियर में हुई थी तैनाती

30 वर्षीय मणिमंजरी राय (मृतका) गाजीपुर के भांवरकोल की रहने वाली थीं। उनकी तैनाती करीब दो साल पहले मनियर नगर पंचायत के ईओ पद पर हुई थी। वह जिला मुख्यालय स्थित आवास विकास कॉलोनी की बिल्डिंग में तीसरे तल पर किराए के फ्लैट में रहती थीं। सोमवार को पड़ोस की महिला को कुछ शक हुआ तो आसपास के लोगों को किसी अनहोनी की आशंका के चलते पुलिस को खबर की।

 

दरवाजा तोड़कर पुलिस अन्दर पहुंची तो पहुंची तो बेड के ऊपर ही फंदे पर मणि मंजरी राय की लाश लटक रही थी। तत्काल फॉरेंसिक टीम बुलाई गई और जांच पड़ताल के बाद शव को उतारकर पोस्ट मार्टम को भेजा गया। सूचना मिलने पर डीएम एसपी समेत आलाधिकारी मौके पर पहुंच गए।

 

पिता ने लगाया हत्या का आरोप

मृतक पीसीएस अधिकारी मणि मंजरी राय के पिता जय ठाकुर राय ने इस बात से इंकार किया है कि उनकी बेटी किसी तनाव में थी। अधिशाशी अधिकारी सेवा संघ ने भी मणिमंजरी की मौत की उच्चस्तरीय जांच कराने की गुजारिश डीएम से करते हुए उन्हें पत्रक दिया है। इस मामले में डीएम हरि प्रताप शाही ने कहा है कि परिवार वालों के आरोपों के हिसाब से केस दर्ज कर जांच होगी। एक सुसाइड नोट भी मिला है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned